Amphan Cyclone के फंड में हेराफेरी, TMC नेता ने मांगी माफी और सबके सामने की उठक-बैठक

  • Amphan Cyclone के फंड में हेराफेरी
  • TMC नेता पर हेराफेरी करने का आरोप
  • टीएमसी नेता ने लोगों से मांगी माफी और उठक-बैठक की

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में अम्फान चक्रवाती तूफान ( Amphan Cyclone ) के कारण भारी तबाही मची थी। पीड़ित लोगों की मदद के लिए राज्य सरकार ( State Government ) की ओर से फंड भी जारी किया गया था। लेकिन, इस फंड में हेराफेरी का मामला सामने आया है। दक्षिण 24 परगना ( South 24 Parganas ) में TMC नेता पर फंड में हेराफेरी करने का आरोप लगा है, जिसके बाद उन्होंने लोगों से माफी मांगी और सबके सामने उठक-बैठक भी की।

फंड में हेराफेरी

जानकारी के मुताबिक, नंदकुमार ( Nandkumar ) इलाके में स्थानीय लोगों ने टीएमसी ( TMC ) नेता पर आरोप लगाया कि पंचयात सदस्य ने केवल करीबियों की मदद की। अम्फान ( Amphan Cyclone ) से प्रभावित लोगों के लिए जो मदद राशि की घोषणा की गई थी, उसमें हेराफेरी की गई है। मामले का खुलासा होने के बाद टीएमसी ( TMC Leader ) नेता खुद लोगों से माफी मांगी और उठक-बैठक की। बताया जा रहा है कि ग्राम पंचायत सदस्य ने कहा कि मुझसे गलती हो गई, मुझे माफ कर दो, दोबारा ऐसा काम कभी नहीं करूंगा। वहीं, इस पूरे मामले के बाद मौके पर पहुचे BDO ने लोगों को समझाने की कोशिश की और आश्वासन दिया कि जल्द ही सभी को मदद पहुंचाई जाएगी।

BJP ने साधा निशाना

वहीं, इस पूरे प्रकरण पर विपक्षी पार्टी बीजेपी ( BJP ) ने TMC पर निशाना साधा है। बीजेपी नेता स्यांतन बसु ( Sayantan Basu ) का कहना है कि राहत सामग्री वितरण में टीएमसी नेता भ्रष्टाचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये जो घटना घटी है, इससे साफ स्पषट है कि TMC नेता किस तरह करप्शन कर रहे हैं। राज्य सरकार की इस हरकत से लोगों में काफी नाराजगी है। हालांकि, TMC ने इस घटना पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है।

अब तक कई शिकायतें मिली

यहां आपको बता दें कि इससे पहले राज्य सरकार ने राहत सामग्री और कोष के वितरण में कथित अनियमितताओं पर पांच बीडिओ ( BDO ) को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि हेराफेरी में लिप्त पाए जाने पर पंचायतों के जन प्रतिनिधियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बताया जा रहा है कि दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना, हुगली और हावड़ा जिलों में तैनात पांच बीडीओ के जवाब अगर सही नहीं हुए या फिर संतोषजनक नहीं हुए तो उन सबके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि राहत सामग्री को लेकर कई शिकायते मिल चुकी हैं। जरूरतमंदों तक सामान नहीं पहुंचाया जा रहा है। साथ ही प्रभावितों को सरकार की घोषणाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

Show More
Kaushlendra Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned