पश्चिम बंगाल: टीएमसी के आरोपों पर चुनाव आयोग का जवाब, हम नहीं संभाल रहे राज्य की कानून-व्यवस्था

Highlights

  • ममता सरकार का कहना है कि सुरक्षा व्यवस्था चुनाव आयोग के हाथ में थी।
  • तृणमूल नेताओं का दावा है कि सीएम की जान लेने का ये गहरा षड्यंत्र था।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में बीते दिनों राज्य के सीएम ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर हमले के बाद से आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। ममता सरकार का कहना है कि सुरक्षा व्यवस्था चुनाव आयोग के हाथ में थी। लापरवाही की वजह से ये घटना घटी है। अब आयोग ने टीएमसी के सवालों का जवाब देकर कहा कि यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी मगर यह कहना गलत होगा कि आयोग ने राज्य के कानून और व्यवस्था मशीनरी पर कब्जा किया हुआ है। आयोग ने कहा कि हम नहीं संभाल रहे हैं राज्य की कानून-व्यवस्था।

ये भी पढ़ें: TMC का घोषणा पत्र टला, ममता बनर्जी के चोटिल होने की वजह से बदला समय

आयोग के अनुसार इस घटना की तुरंत जांच कराने की आवश्यकता है। गौरतलब है कि नंदीग्राम की घटना पर टीएमसी ने आयोग को पत्र लिखा था। गौरतलब है कि सीएम ममता बनर्जी पर नंदीग्राम में कथित तौर हमले से जुड़ी चिंताओं को लेकर शुक्रवार को पार्टी का एक संसदीय प्रतिनिधिमंडल दिल्ली में चुनाव आयोग के अधिकारियों से मिलने वाला है।

तृणमूल के एक प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को कोलकाता में चुनाव आयोग के अधिकारियों से मुलाकात की। उन्होंने निर्वाचन आयोग पर भाजपा नेताओं के इशारों पर काम करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि बनर्जी पर हमले की आशंका की रिपोर्ट के बावजूद निर्वाचन आयोग ने कुछ नहीं किया।

तृणमूल नेताओं का दावा है कि सीएम की जान लेने का ये गहरा षड्यंत्र था और भाजपा ने पड़ोसी राज्यों से असामाजिक तत्वों को हिंसा के लिए नंदीग्राम भेजा था। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बुधवार को आरोप लगाया था कि नंदीग्राम में चुनाव प्रचार के दौरान कुछ लोगों ने उन्हें धक्का दिया था। इसके कारण वह जमीन पर गिर गईं और उन्हें चोट लगी।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned