भारत आएंगे चीन के राष्ट्रपति, मोदी और शी के बीच कश्मीर पर नहीं होगी कोई चर्चा

भारत आएंगे चीन के राष्ट्रपति, मोदी और शी के बीच कश्मीर पर नहीं होगी कोई चर्चा

  • 11 अक्टूबर को भारत आएंगे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग
  • जम्मू-कश्मीर और अनुच्छेद 370 पर नहीं होगी दोनों देशों के बीच बातचीत

नई दिल्ली। अगामी 11 अक्टूबर को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे पर आने वाले हैं। शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक के दौरान कश्मीर और संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करने के मुद्दों पर कोई बातचीत नहीं होगी, क्योंकि ये मुद्दे भारतीय संविधान और भारत की संप्रभुता से जुड़े हुए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राष्ट्रपति शी और प्रधानमंत्री मोदी अपनी दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए 11-12 अक्टूबर को तटीय नगर महाबलीपुरम में मिलने वाले हैं। दोनों नेताओं के बीच कश्मीर और अनुच्छेद 370 के मुद्दों पर चर्चा नहीं होगी। रिपोर्ट्स के अनुसार भारत ने अनुच्छेद 370 पर अपना रुख बिल्कुल स्पष्ट कर दिया है कि यह भारतीय संविधान से संबंधित है, जो हमारी संप्रभुता का मामला है। तो इस पर चर्चा होने का सवाल ही नहीं उठता। कुछ रिपोर्ट्स का यह भी कहना है कि अगर राष्ट्रपति शी मामले को समझना चाहते हैं तो हम इसे समझाएंगे।

अनुच्छेद 370 हटाने के बाद लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाने और चीन द्वारा इस पर आपत्ति जताने के मुद्दे पर कहा गया है कि यह कदम स्थानीय जनता द्वारा और विकास तथा अधिकार देने की मांग पर उठाया गया है। इसके अलावा चीन को भारत का रुख बता दिया गया है कि उसने बाहरी सीमा में कोई बदलाव नहीं किया है। अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए शी के भारत दौरे पर आने से पहले बीजिंग ने मंगलवार को कश्मीर पर नरम रुख अपनाते हुए कहा था कि यह मुद्दा भारत और पाकिस्तान के बीच बातचीत और विचार-विमर्श के माध्यम से सुलझाया जाना चाहिए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned