12 साल से टेंट में गुजारा कर रहा था परिवार, प्रधानमंत्री आवास योजना से मिला आशियाना

उधमपुर की रहने वालीं जरीना बीबी 12 साल से टेंट में रह रहीं थीं। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उन्हें आशियाना मिल पाया है।

श्रीनगर। केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री आवास योजना ने कई बेघरों को आशियाना दिला दिया है। पीएम मोदी ने जब इस योजना की शुरूआत की थी तो उन्होंने कहा था कि 2022 तक हमारा ये लक्ष्य है कि भारत के हर नागरिक के पास अपना घर हो। शायद केंद्र की मोदी सरकार अपने इस लक्ष्य की तरफ बढ़ रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कई बेघरों को सिर पर छत आई है। ऐसे लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बहुत शुक्रिया अदा कर रहे हैं। इन्हीं में से एक हैं जम्मू-कश्मीर के उधमपुर की रहने वालीं जरीना बीबी, जिन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अपना आशियाना मिला है।

प्रधानमंत्री आवास योजना से बेघरों को मिला घर
जरीना बीबी की कहानी बड़ी ही दर्दनाक है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पिछले 10-12 सालों से जरीना का परिवार टेंट में रहकर अपना गुजारा कर रहा था। प्रधानमंत्री आवास योजना ने उनके परिवार को आशियाना दिला दिया है। घर मिलने से जरीना का परिवार बेहद खुश है। उन्होंने पीएम मोदी का शुक्रिया भी अदा किया है। जरीना का कहना है कि मोदी सरकार का हम शुक्रिया अदा करते हैं कि उनकी योजना की वजह से ही हमारे सिर पर छत आई है। वहीं जरीना के पड़ोसियों ने भी इस पर खुशी जताई है। उन्होंने कहा है कि वो जरीना को घर मिल जाने से बहुत खुश हैं, क्योंकि जरीना के पति की मृत्यु के बाद से ही वो टेंट में रहकर अपना गुजारा कर रही थी।

2022 तक है सभी गरीबों को घर देने का लक्ष्य
आपको बता दें कि केंद्र की मोदी सरकार के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना की कामयाबी उनके 4 साल के कार्यकाल में एक बड़ी सफलता है। सिर्फ जम्मू-कश्मीर ही नहीं बल्कि मध्यप्रदेश में भी इस योजना के तहत कई बेघरों को अपना आशियाना मिला है। मध्यप्रदेश के अलावा भी देश के कई शहरों में इस योजना से कई बेघरों का अपने घर का सपना पूरा हुआ है। आपको बता दें कि मोदी सरकार ने 2022 तक सभी गरीबों को घर देने के लक्ष्य के साथ इस योजना की शुरूआत की थी और ये लक्ष्य शायद जल्द ही पूरा हो जाएगा। महाराष्ट्र में भी पीएमएवाई के तहत 548 घरों के लिए पहली लॅाटरी जून में निकाली जाएगी। इसमें 548 घरों को शामिल किया गया है। इनमें से 300 घर नासिक में और 248 घर औरंगाबाद में हैं।

Show More
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned