अबू धाबी: अदालत की तीसरी आधिकारिक भाषा बनी हिंदी

अबू धाबी: अदालत की तीसरी आधिकारिक भाषा बनी हिंदी

Mohit Saxena | Publish: Feb, 10 2019 06:28:07 PM (IST) | Updated: Feb, 11 2019 11:09:08 AM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

अरबी और अंग्रेजी के बाद तीसरी आधिकारिक भाषा के रूप में शामिल लिया

दुबई। अबू धाबी ने अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी को अपनी अदालतों में तीसरी आधिकारिक भाषा के रूप में शामिल कर लिया है। यह ऐतिहासिक फैसला लेते हुए कहा जा रहा है कि इससे न्याय तक पहुंच बढ़ जाएगी। इससे लोगों के लिए अदालत में केस लड़ना आसान होगा। अबू धाबी न्याय विभाग (एडीजेडी) ने शनिवार को कहा कि उसने श्रम मामलों में अरबी और अंग्रेजी के साथ हिंदी भाषा को शामिल करके कोर्ट के समक्ष दावों के बयान के लिए भाषा के माध्यम का विस्तार कर दिया है।

दो तिहाई हिस्से में विदेशों के प्रवासी लोग हैं

इसका मकसद हिंदी भाषी लोगों को मुकदमे की प्रक्रिया,उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में सीखने में मदद करना है। एक आंकड़े के मुताबिक, संयुक्त अरब अमीरात की आबादी का करीब दो तिहाई हिस्से में विदेशों के प्रवासी लोग हैं। संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय लोगों की संख्या 26 लाख है जो देश की कुल आबादी का 30 फीसदी है और यह देश का सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है। एडीजेडी के के उच्च सचिव युसूफ सईद अल अब्री के अनुसार दावा शीट,शिकायतों और अनुरोधों के लिए बहुभाषा लागू करने का मकसद 2021 की तर्ज पर न्यायिक सेवाओं को बढ़ावा देना और केसर की प्रक्रिया में पारदर्शिता बढ़ाना है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned