Amrullah Saleh के बड़े भाई की बेरहमी से हत्या, तालिबान ने दी यातनाएं

रिपोर्ट में दावा करा जा रहा है कि तालिबानी लड़ाकों ने पंजशीर में बीती रात रोहुल्लाह सालेह की हत्या कर दी।

तेहरान। अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद से दिन पर दिन हालात बदतर होते जा रहे हैं। इस बीच खबर सामने आ रही है कि तालिबान के कब्जे से पहले अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति रहे अमरूल्लाह सालेह (Amrullah Saleh) के बड़े भाई रोहुल्लाह सालेह की हत्या कर दी गई है। उन्हें बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया। रिपोर्ट में दावा करा जा रहा है कि तालिबानी लड़ाकों ने पंजशीर में बीती रात रोहुल्लाह सालेह की हत्या कर दी।

रिपोर्ट के अनुसार, गुरुवार रात तालिबान और नॉदर्न अलायंस के बीच हिंसक संघर्ष हुआ। इस घटना में सालेह के बड़े भाई को मौत के घाट उतार दिया गया। रिपोर्ट में बताया गया कि तालिबान के लड़ाकों ने रोहुल्लाह सालेह को काफी यातनाएं दी । हालांकि,अब तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।

ये भी पढ़ें: 7 महीने बाद जो बिडेन और शी जिनपिंग के बीच हुई बातचीत, चीन बोला- अमरीका ने उसे काफी नुकसान पहुंचाया

पंजशीर पर जीत का दावा

रिपोर्ट में दावा करा गया कि जब तालिबानी लड़ाके की उसी स्थान पर बैठे हुए तस्वीर सामने आई है, जहां से अमरूल्लाह सालेह ने एक वीडियो बयान जारी करा था कि वह अभी भी पंजशीर में है। इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर वायरल कर यह कहा गया कि तालिबान ने यहां बने पुस्तकालय पर कब्जा कर लिया है। इस जगह अमरूल्लाह सालेह रहता था।

पंजशीर ने आजादी के लिए जंग लड़ी

पंजशीर वहीं क्षेत्र है, जहां पर अभी तालिबान का राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चा और नार्दर्न अलायंस के साथ जंग जारी है। 15 अगस्त को काबुल पर तालिबान ने अपना कब्जा जमाया था। हालांकि,पंजशीर में नॉर्दर्न अलायंस ने अपनी आजादी की जंग जारी रखी थी। अशरफ गनी ने देश छोड़कर जाने के बाद अमरूल्लाह सालेह ने पंजशीर के लड़ाकों का जमकर समर्थन किया। उनकी तरफ से कई मौकों पर तालिबान को खुली चेतावनी दी गई है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned