Video: -56 डिग्री तापमान में यहां जमने लगे हैं जानवर, विचलित कर सकता है वीडियो

कजाखस्तान में सोशल एक्टिविस्ट जानवरों को बचाने के लिए शाम को बाहर निकलते हैं।

नई दिल्ली: इस वक्त कड़ाके की ठंड का सितम सिर्फ हिंदुस्तान में ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों में देखने को मिल रहा है। भारत में स्थिति फिर भी सामान्य है, क्योंकि दुनिया के कई देशो में तो पारा इस स्तर पर पहुंच गया है कि खून तक जम जाए। इस जानलेवा ठंड की वजह से न सिर्फ इंसान परेशान है, बल्कि जानवरों तक की जान पर आफत आ गई है। इंसान तो फिर भी कड़ाके की ठंड का सामना कर पा रहे हैं, लेकिन जानवरों की जानें जा रही हैं।

-56 डिग्री में जम गए जानवर
कजाखस्तान में इन दिनों का ठंड का सितम ऐसा है कि यहां पारा माइनस 56 डिग्री तक जा पहुंचा है और इंसानों के साथ-साथ जानवरों तक लिए आफत आ गई है। कजाखस्तान से एक वीडियो सामने आया है जो कि हर किसी को विचलित कर सकता है। वीडियो में दिख रहा है कि खुले में बाहर घूम रहे जानवरों की मौत हो रही है। आलम ये है कि ठंड की वजह से जिंदा जानवर भी जम गए हैं। वीडियो में दिख रहा है कि कैसे कुत्ता , खरगोश किसी सुरक्षित जगह पर जाने के चक्कर में फंस गए हैं और बर्फ में जान जाने की वजह से उनकी मौत हो गई है।

जानवरों की जान बचाने में लगे हुए हैं लोग
इस वीडियो को एक सोशल एक्टिविस्ट ने शेयर किया है और उसने वीडियो में कहा है कि इस जानलेवा ठंड में वो लोग जानवरों को बचाने की कोशिश भी करते हैं। शाम होते ही ये लोग बाहर जानवरों की तलाश में निकल जाते हैं, जो ऐसी हालत में फंसे होते हैं। ये लोग ऐसे जानवरों को वहां से निकालकर सुरक्षित स्थानों पर लेकर जाते हैं।

अन्य देशों में भी -62 तक पहुंच गया है पारा
जानलेवा ठंड सिर्फ यहीं नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में पड़ रही है। रूस के ओम्याकॉन कस्बे में पिछले हफ्ते पारा माइनस 62 डिग्री सेल्सियस के करीब ही रहा। जबकि, इसे धरती पर रहने के लिहाज से सबसे ठंडी जगह माना जाता है। यहां सर्दी के मौसम में औसत टेम्प्रेचर -50 डिग्री सेल्सियस के आस-पास रहता है। हालांकि, इसके बावजूद इस टाउन में करीब 500 लोग रहते हैं।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned