बुधवार को पृथ्वी के करीब से गुजरेगा क्षुद्रग्रह, NASA के वैज्ञानिकों की पैनी नजर

  • क्षुद्रग्रह 2019 UK6 बुधवार की सुबह करीब 6.20am बजे पृथ्वी के करीब से गुजरेगा
  • वैज्ञानिकों को 2019 UK6 क्षुद्रग्रह के बारे में पहली बार बीते 24 अक्टूबर को जानकारी मिली थी

वाशिंगटन। वैज्ञानिक अंतरिक्ष में हो रहे हलचल व छोटी-छोटी गतिविधियों पर लगातार नजर बनाए हुए है। खास कर वैसे क्षुद्रग्रहों (Asteroids) पर जो लगातार पृथ्वी की ओर बढ़ रहे हैं। पृथ्वी से टकराने की संभावना वाले क्षुद्र ग्रहों पर वैज्ञानिकों की पैनी नजर है।

यही कारण है कि अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के वैज्ञानिकों ने ऐसे क्षुद्रग्रहों का एक झुंड देखा है जो तेजी से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है।

पृथ्वी के करीब आ रहा है ये बड़ा क्षुद्रग्रह, स्टेरॉयड के हर गतिविधि पर nasa की नजर

दरअसल, नासा के वैज्ञानिकों ने जिन तीन क्षुद्रग्रहों को पृथ्वी के करीब से गुजरते की संभावना जताई थी उनमें से दो को बीते सप्ताह के अंत में देखा था, लेकिन तीसरे का पता नहीं चल सका है। ये दोनों 20 नवंबर को पृथ्वी के करीब से गुजरेंगे।

वैज्ञानिकों ने कहा है कि ये क्षुद्रग्रह तेजी के साथ पृथ्वी की ओर बढ़ रहे हैं। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि इसमें से कुछ पृथ्वी से टकरा सकता है। जिसको लेकर अब वैज्ञानिकों में तनाव बढ़ गया है।

बुधवार को पृथ्वी के करीब से गुजरेंगे

वैज्ञानिकों ने बताया है कि दोनों में से पहला बुधवार को पृथ्वी के करीब से गुजरेगा। इसका आकार 157.5 फीट से लेकर 360.8 फीट (48 से 110 मीटर) है। क्षुद्रग्रह 2019 UK6 जो लगभग 6.20am बजे पृथ्वी के करीब से तेज गति के साथ गुजरेगा। 2019 UK6 क्षुद्रग्रह के बारे में पहली बार बीते 24 अक्टूबर को जानकारी दी गई थी और इसको लेकर पहले ही चेतावनी जारी की गई थी।

NEO 2019 UK6 एक एमोर क्षुद्रग्रह है, जो सूर्य और पृथ्वी के चारों ओर घूमता रहता है, लेकिन कभी-कभार बहुत कम पृथ्वी के मार्ग को पार करता है। दूसरी ओर अपोलो क्षुद्रग्रह, पृथ्वी की कक्षा में भी प्रवेश कर जाता है, क्योंकि यह सूर्य के चारों ओर घूमता है।

पृथ्वी पर आने वाला है बड़ा संकट! शोधकर्ताओं का दावा- 2067 तक आर्कटिक महासागर में खत्म हो जाएगी बर्फ

दूसरा क्षुद्रग्रह 2019 WFF है, जो बुधवार को पृथ्वी के करीब से गुजरेगा। नासा ने इस क्षुद्रग्रह को दो दिन पहले 17 नवंबर को देखा गया था। यह लगभग 24 मीटर चौड़ा होने का अनुमान है। बताया जा रहा है कि यह पृथ्वी और चंद्रमा की दूरी से लगभग दोगुनी दुरी से गुजरेगा, इसलिए इससे कोई खतरा नहीं है।

तीसरा जिसे 17 नवंबर को देखा गया था, वह हमारे ग्रह पृथ्वी से लगभग 1.3 मिलियन किलोमीटर की दूरी से गुजरेगा। रवाना होगा। नासा ने कहा है कि इन तीनों क्षुद्रग्रहों से कोई खतरा नहीं है। हालांकि इसपर नजर बनाए हुए हैं।

झुंड में आगे बढ़ रहे थे ये क्षुद्रग्रह

नासा के सेंटर फॉर नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट स्टडीज (CNEOS) ने बताया था कि पृथ्वी की ओर बढ़ रहे क्षुद्रग्रहों की गति लगभग 19 हजार मील प्रति घंटा है। सभी का आकार लगभग 44 मीटर चौड़ा है। वैज्ञानिकों ने इसका नाम 2019 VW1 नाम रखा है।

वैज्ञानिकों ने बताया था कि इस झुंड में एक साथ चार क्षुद्रग्रह हैं। दूसरे की पहचान2019 VK3 के रूप में की गई है, जो 43 मीटर चौडा है। जबकि तीसरे क्षुद्रग्रह की पहचान 2019 VN2 के तौर पर की गई है और चौथे का नाम UB14 रखा गया है। तीसरा आकार में 24 मीटर चौड़ा है, जबकि चौथा लगभग 38 मीटर चौड़ा है।

पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है क्षुद्रग्रहों का झुंड, वैज्ञानिकों की पैनी नजर

नासा ने जानकारी दी थी कि ये सभी क्षुद्रग्रह मौजूदा समय में 35,000 मील प्रति घंटे की गति से पृथ्वी की ओर बढ़ रहे है। नासा ने तेज चट्टानों को नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट्स या NEO Asteroids करार दिया है, जो धूमकेतु और क्षुद्रग्रह हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned