ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को लेकर डर बरकरार, ब्रिटेन में 40 से कम उम्र वाले दूसरे विकल्प की तलाश में

गर्भवती महिलाओं के लिए भी इस तरह की एडवाइजरी जारी की गई थी। इस वैक्सीन से अभी भी खून के थक्के जमने के मामले सामने आ रहे हैं।

लंदन। लंदन में वैक्सीनेशन अभियान जोशोर से जारी है। मगर लोगों में अभी भी ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन (Oxford/AstraZeneca) को लेकर डर बना हुआ है। इस वैक्सीन से अभी भी खून के थक्के जमने के मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में ज्वाइंट कमेटी ऑन वैक्सिनेशन एंड इम्युनाइजेशन (JCVI) ने ब्रिटेन में 40 से कम उम्र के लोगों को कोई और टीका लगाने की सलाह दी है।

Read More: गोवा में 18 साल से ज्यादा उम्र वालों को दी जाएगी 'आइवरमेक्टिन दवा', मंत्री का दावा- कम होगी मृत्यु दर

गर्भवती महिलाओं के लिए भी एडवाइजरी

कमेटी ने सिफारिश की है कि इस आयुवर्ग को दूसरी वैक्सीन दी जाए। इसके पहले उसने गर्भवती महिलाओं के लिए भी इस तरह की एडवाइजरी जारी की थी। मीडिया रिपोर्ट अनुसार चेतावनी को ध्यान में रखकर लोग फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन लगाने की चर्चा कर रहे हैं। गौरतलब है कि ब्रिटेन का लक्ष्य है कि जुलाई के अंत सभी को वैक्सीन दे दी जाए। मगर इस तरह की समस्याएं सामने आने के बाद अब अन्य वैक्सीन को विकल्प के रूप में देखा जा रहा है।

Read More: WHO ने फिर दी चेतवानी- Coronavirus के इलाज में कारगार नहीं यह दवा

दूसरे विकल्प को तलाश करने की सलाह

अप्रैल के माह में JCVI ने 30 साल से कम उम्र के लोगों को एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की जगह किसी दूसरे विकल्प को तलाश करने की सलाह दी थी। साथ ही ब्रिटेन में गर्भवती महिलाओं को फाइजर या मॉडर्ना वैक्सीन लगाने को कहा था। एक रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन के दवा नियामक का कहना है कि दुर्लभ थक्कों और प्लेटलेट स्तर के गिरने के मामले प्रति 10 लाख डोज में बहुत कम देखने को मिले हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned