नौका डूबने से यूरोप जा रहे 17 प्रवासियों की मौत, 300 से ज्यादा को बचाया

ट्यूनीशिया एवं लीबिया की नौसेनाओं ने कई लोगों को बचाया, नौका के इंजन में आग लगने के कारण ये हादसा हुआ।

ढाका। भूध्यसागर में नौका डूबने से बांग्लादेश के कम से कम 17 प्रवासियों की मौत हो गई। वहीं 300 से ज्यादा लोगों को ट्यूनीशिया एवं लीबिया की नौसेनाओं ने बचाया। सहायता संगठन ने गुरुवार को इस घटना की जानकारी दी है।

ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान के उप राष्ट्रपति ने पाक पर बोला हमला, ट्विटर पर भारत और पाकिस्तान से जुड़ी तस्वीर की साझा

ट्यूनीशियाई रेड क्रीसेंट के प्रमुख मोंगी स्लिम के अनुसार हादसे में बच गए लोगों ने बताया कि जिनकी मौत हुई, उन्हें नौका के भंडारण कक्ष में बैठाया गया था। यहां पर उन्होंने दूसरों की तुलना में तस्करों को कम पैसे दिए थे। नौका के इंजन में आग लगने पर उनका दम घुट गया। इसका उनकी मौत हो गई।

ये भी पढ़ें: रूस में भ्रष्टाचारी पुलिस अधिकारी के घर पर मारा छापा, सोने का टॉयलेट देखकर हैरान रह गई टीम

हाल के माह में लीबिया से यूरोप के लिए नौकाओं से प्रवासियों का आना जाना बहुत बढ़ गया है। स्लिम के अनुसार नौका में प्रारंभ में करीब 400 प्रवासी थे, जिनमें से 200 को लीबिया की नौसेना ने बचाया। उन्होंने कहा कि ट्यूनीशिया की नौसेना ने 17 शव बरामद किए। इसके साथ 166 अन्य प्रवासियों को बचाया। इनमें बांग्लादेश, मोरक्को, मिस्र, सीरिया और आइवरी कोस्ट के लोग थे। इस नौका ने अपनी यात्रा यूरोप जाने के लिए सोमवार रात को जौरा तट से शुरू की थी। ट्यूनीशिया के जारजिस बंदरगाह के बाद यह समुद्र में डूब गई।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned