ब्रिटेन: ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन से 7 लोगों की मौत, 23 लोग गंभीर रूप से बीमार

ब्रिटेन में कोरोना वैक्सीन लेने के बाद सात लोगों की मौत हो गई है, जबकि 23 लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं। इन सभी मरीजों ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाया था।

लंदन। पूरी दुनिया कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रही है और अब एक बार फिर से तेजी के साथ बढ़ते कोरोना के नए मामलों ने चिंता बढ़ा दी है। हालांकि, पूरी दुनिया में तेजी के साथ कोरोना टीकाकरण भी किया जा रहा है। लेकिन इन सबके बीच दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से वैक्सीन लेने के बाद फिर से कोरोना संक्रमित होने या फिर मरने की खबरें लगातार आ रही है।

अब इसी कड़ी में ब्रिटेन से एक बड़ी खबर सामने आई है। ब्रिटेन में कोरोना वैक्सीन लेने के बाद सात लोगों की मौत हो गई है, जबकि 23 लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं। इन सभी मरीजों ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाया था।

यह भी पढ़ें :- BioNTech-Pfizer का दावा: 12-15 साल के बच्चों पर 100 फीसदी असरदार है वैक्सीन

बताया जा रहा है कि 30 लोगों ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का टीका लगवाया था, जिसके बाद सभी की तबीयत अचानक बिगड़ने लगी। ब्रिटेन के एक मेडिकल अधिकारी ने बताया है कि वैक्सीन लेने के बाद सभी के सिर में ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत आने लगी। इसके बाद सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। इनमें से 7 लोगों की मौत हो गई।

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेता वैक्सीन पर लगा था प्रतिबंध

आपको बता दें कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन लेने के बाद कई मरीजों की मौत और कई की तबीयत खराब होने की शिकायत के बाद ऐहतियाती कदम उठाते हुए पिछले महीने मार्च में कुछ यूरोपीय देशों ने प्रतिबंध लगा दिया था। लोगों को आशंका थी कि इस वैक्सीन का डोज लेने के बाद रक्त में थक्का जम जाता है और फिर मरीज की मौत हो जाती है। हालांकि बाद में विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूरोपीय मेडिकल कॉउंसिल ने बताया कि वैक्सीन लगाने के बाद रक्त में थक्का जमने की बात सही नहीं है। इसलिए वैक्सीन पर रोक लगाने का कोई मतलब नहीं है।

यह भी पढ़ें :- कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए घर बैठे बुक करें स्लॉट, एक या एक से अधिक व्यक्तियों के लिए हो जाएगा रजिस्ट्रेशन

WHO की प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने कहा, 'हां, हमें एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का इस्तेमाल जारी रखना चाहिए। ऐसा कोई कारण नहीं है कि इसका उपयोग न किया जाए। आपको बता दें कि इससे पहले फाइजर वैक्सीन लेने के बाद मरीजों के मरने की खबर कई देशों से सामने आई थी, हालांकि, कंपनी की ओर से बताया गया कि मरीजों के मरने का कारण वैक्सीन नही है। वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है।

मालूम हो कि पूरी दुनिया में अब तक 12 करोड़ से अधिक लोग कोरोना संक्रमण के शिकार हो चुके हैं, जबकि इनमें से 27 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned