Britain: लंदन में भारतीय मूल के डॉ. कृष्णन सुब्रमण्यन की कोरोना से निधन, अस्पताल ने दी श्रद्धांजलि

HIGHLIGHTS

  • Coronavirus In Britain: पूर्वी इंग्लैंड स्थित एक अस्पताल में कार्यरत भारतीय मूल के 46 वर्षीय डॉ. कृष्णन सुब्रमण्यन ( Indian-Origin Doctor Krishnan Subramanian ) की कोरोना से निधन हो गया।
  • सोमवार सुबह 11 बजे डॉ. कृष्णन की स्मृति में रॉयल डर्बी अस्पताल में एक मिनट का मौन रखा जाएगा।

लंदन। कोरोना महामारी ( Coronavirus Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है और अब तक लाखों लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, अब तक पांच करोड़ से अधिक लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। इस महामारी की चपेट में आने से अब तक पूरे विश्व में कई दिग्गजों और डॉक्टरों तक की भी मौत हो चुकी है।

इसी कड़ी में पूर्वी इंग्लैंड स्थित एक अस्पताल में कार्यरत भारतीय मूल के डॉक्टर की कोरोना से निधन हो गया। 46 वर्षीय डॉ. कृष्णन सुब्रमण्यन ( Indian-Origin Doctor Krishnan Subramanian ) की गुरुवार को कोरोना की वजह से निधन हो गया। डॉ. कृष्णन के निधन पर अस्पताल ने उनके 'समर्पन और प्रतिबद्धता' को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी।

Coronavirus: डॉ हर्षवर्धन ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों और अधिकारियों को उच्च परीक्षण के दिए निर्देश

यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल्स ऑफ डर्बी एंड बर्टन (UHDB) एनएचएस फाउंडेशन के रॉयल डर्बी अस्पताल में डॉ. कृष्णन एक सहायक एनेस्थेटिस्ट थे। बताया जा रहा है कि सोमवार सुबह 11 बजे डॉ. कृष्णन की स्मृति में रॉयल डर्बी अस्पताल में एक मिनट का मौन रखा जाएगा।

अस्पताल ने परिवार के प्रति जताया संवेदना

ट्रस्ट के चीफ एग्जीक्यूटिव गेविन बॉयल ने कहा कि डॉ. कृष्णन का निधन होना UHDB परिवार के लिए यह एक बहुत खराब दिन है। वे इस टीम के एक मूल्यवान सदस्य थे। उन्होंने कोरोना के इस संकट में लोगों की मदद के लिए अथक परिश्रम किया।

बॉयल ने कहा- डॉ. कृष्णन को इस तरह खोना दिल तोड़ने वाला है। उन्होंने कहा कि डॉ. कृष्णन को खोने का हमारे सभी कर्मचारियों पर निस्संदेह प्रभाव पड़ेगा।

Coronavirus: दुनियाभर में 300 करोड़ लोग सबुन से हाथ नहीं धोते, रेत और मिट्टी का करते हैं उपयोग

बता दें कि डॉ. कृष्णन ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में डर्बी के साथ इंग्लैंड के ईस्ट मिडलैंड क्षेत्रों के अस्पतालों में प्रशिक्षण लिया था। डॉ. सुब्रमण्यन साल 2014 की शुरुआत में सहायक एनेस्थेटिस्ट के तौर पर नेशनल हेल्थ सर्विस ट्रस्ट से जुड़े थे।

इससे पहले उन्होंने यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल्स ऑफ लेसेस्टर एनएचएस ट्रस्ट के साथ काम किया था। उन्होंने स्तन सर्जरी के लिए एनेस्थीसिया पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर का काम किया था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned