China ने भारत के बयान को नकारा, पीएलए के 40 सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि से इनकार

Highlights

  • पूर्व भारतीय सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह (VK Singh) ने कहा था कि भारतीय सैनिकों के साथ झड़प में चीन के 40 से अधिक सैनिक मारे गए हैं।
  • चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान के अनुसार राजनयिक और सैन्य स्तरों के माध्यम से दोनों देश इस तनाव का हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

बीजिंग। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley) में बीते दिनों चीनी सैनिकों से हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। भारत की तरफ से दावा किया जा रहा था कि इस हमले में चीन के 40 सैनिकों की मौत हो गई है। मगर इस बात की चीन ( China) की ओर से पुष्टि नहीं हुई है। चीन ने सोमवार को केंद्रीय मंत्री और पूर्व भारतीय सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह (VK Singh) के बयान पर प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया। सिंह ने कहा था कि भारतीय सैनिकों के साथ झड़प में चीन के 40 से अधिक सैनिक मारे गए हैं।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान दोहराया कि चीन और भारत राजनयिक और सैन्य स्तरों के माध्यम से इस तनाव का हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं। जमीनी स्तर पर स्थिति को सुधारने के लिए एक दूसरे के साथ वार्ता कर रहे हैं। जब उनसे जनरल वीके सिंह के बयान को लेकर प्रतिक्रिया मांगी तो उन्होंने साफ कह दिया कि उनके पास इसे लेकर कोई जानकारी नहीं है।

गौरतलब है कि जब से भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई है तब से चीन अपने हताहत हुए सैनिकों की संख्या बताने में कतरा रहा है। हालांकि विदेशी मीडिया का कहना है कि इस झड़प में बीजिंग को काफी नुकसान हुआ है। बता दें कि सिंह ने शनिवार को एक मीडिया चैनल से बातचीत में कहा था कि यदि हमारे 20 सैनिक शहीद हुए हैं तो उनके (चीनी पक्ष) दोगुने से अधिक संख्या में मारे गए हैं।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned