चीन ने WHO की कोरोना जांच टीम को देश में प्रवेश की नहीं दी इजाजत, क्या कभी सामने आ पाएगा कोविड का सच?

HIGHLIGHTS

  • चीन ने एक बार फिर से अपनी दादागिरी दिखाते हुए अपने देश में WHO की टीम को प्रवेश करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है।
  • WHO की टीम ने चीन से कोरोना संबंधित जांच के लिए देश में प्रवेश की इजाजत मांगी थी।

बीजिंग। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) के प्रकोप से पूरी दुनिया जूझ रही है और हर दिन लाखों नए मामले सामने आ रहे हैं। कोरोना के नए स्ट्रेन सामने आने के बाद से हालात और भी खराब होते हुए दिखाई दे रहे हैं। अब तक 40 से अधिक देशों में कोरोना का न्या स्ट्रेन पहुंच चुका है। इसको लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन ( World Health Organisation ) की ओर से चेतावनी भी जारी की गई है।

इन सबके बीच कोरोना वायरस कहां और कैसे पैदा हुआ इसकी जांच को लेकर WHO की टीम चीन जाना चाहती है, लेकिन चीन ने एक बार फिर से अपनी दादागिरी दिखाते हुए अपने देश में WHO की टीम को प्रवेश करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है।

China: वुहान में कोरोना वायरस की रिपोर्टिंग करने वाली महिला पत्रकार Zhang Zhan को चार साल की जेल

WHO की टीम ने चीन से कोरोना संबंधित जांच के लिए देश में प्रवेश की इजाजत मांगी थी। बता दें कि चीन पर शुरू से कोरोना के मामले में जानबूझकर जानकारी छिपाने का आरोप लगता रहा है। वहीं अमरीका समेत कई देशों की ओर से गंभीर आरोप लगाए जा चुके हैं। इसके अलावा कई शोधकर्ताओं ने ये भी माना है कि चीन ने कोरोना वायरस को वुहान के लैब में तैयार किया है।

अभी कुछ दिनों पहले ही चीन रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के शोधकर्ताओं ने सबसे बड़ा चौंकाने वाला खुलासा करते हुए ये सरकार पर यह आरोप लगाया था कि वुहान में कोरोना संक्रमण के मामले छिपाए गए थे।
चीनी शोधकर्ताओं ने कहा था कि वुहान शहर की आबादी करीब एक करोड़ दस लाख है। अध्ययन के मुताबिक, करीब 5 लाख लोगों को संक्रमण हो सकता है। लेकिन अभी तक सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार 50,354 लोग इससे संक्रमित हुए हैं और 3,869लोगों की मौत हुई है, जबकि 46,471 लोग ठीक हो चुके हैं।

चीन के रवैये से WHO चीफ निराश

आपको बता दें कि चीन शुरू से ही इस बात को खारिज करता रहा है कि कोरोना वायरस उनके यहां से दुनिया में फैला है। हालांकि इससे पहले WHO की एक टीम वुहान के दौरे पर आए थी, लेकिन चीन ने उन स्थानों पर जाने नहीं दिया। लिहाजा, टीम को वापस खाली हाथ लौटना पड़ा। अब एक बार फिर से WHO इस बात की जांच करना चाहता है कि कोरोना वायरस कहां और कैसे पैदा हुआ, इसको लेकर वुहान जाना चाहती है, जहां पर कोरोना का पहला केस सामने आया था। लेकिन चीन ने WHO की टीम को इजाजत देने से ही इनकार कर दिया है।

चीन का कोरोना वैक्सीनेशन प्लान, 12 फरवरी 2021 से पहले 5 करोड़ लोगों को लगाया जाएगा टीका

चीन के इस रवैये से WHO चीफ टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ( Tedros Adhanom Ghebreyesus ) निराश है। टेड्रोस ने कहा कि चीन के अधिकारियों ने विशेषज्ञों के दल को आने की अनुमति नहीं दी है और वह इससे 'निराश' हैं। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस प्रकोप फैलने के एक साल बाद WHO के विशेषज्ञों की टीम को चीन आना था ताकि इस महामारी के स्रोत के बारे में पता लगाया जा सके। इसको लेकर पूरी दुनिया की नजरें टिकी थी।

इससे पहले चीन ने 10 लोगों के विशेषज्ञों के जांच दल को अनुमति दी थी, जो इस सप्‍ताह चीन आने वाले थे पर अब चीन जांच टीम को अपने यहां आने की अनुमति नहीं दे रहा है।

Wuhan Coronavirus
Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned