पृथ्वी पर कभी भी गिर सकता है चीन का रॉकेट, बेकाबू होकर धरती का लगा रहा चक्कर

चीन का लॉन्ग मार्च 5b रॉकेट ( Long March 5b rocket ) बेकाबू होकर पृथ्वी के चक्कर काट रहा है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह अनियंत्रित रॉकेट आने वाले कुछ दिनों में धरती पर गिर सकता है।

बीजिंग। अंतरिक्ष में अपनी उपस्थिति को और अधिक मजबूत करने की दिशा में आगे बढ़ते हुए चीन ने पिछले सप्ताह अपने स्पेस स्टेशन (Space Station) को बनाने के लिए पहला मॉड्यूल लॉंच किया था। लेकिन अब यही दुनिया के लिए एत खतरा बना गया है।

दरअसल, चीन का लॉन्ग मार्च 5b रॉकेट (Long March 5b rocket) बेकाबू होकर पृथ्वी के चक्कर काट रहा है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह अनियंत्रित रॉकेट आने वाले कुछ दिनों में धरती पर गिर सकता है। यदि ऐसा होता है तो भारी नुकसान की संभावना है।

यह भी पढ़ें :- चीन ने बनाएगा खुद का स्पेस स्टेशन, अंतरिक्ष में अमरीका को देगा बड़ी चुनौती

बता दें कि ये चीन के लॉन्ग मार्च 5b रॉकेट का कोर स्टेज है, जिसका वजन 21 टन है। इस कोर स्टेज के जरिए ही रॉकेट को सपोर्ट दिया जाता है। तय कार्यक्रम के अनुसार, इस लॉन्ग मार्च 5b रॉकेट के कोर स्टेज को समुद्र में बनाए गए जगह पर गिरना था, लेकिन अब यह अनियंत्रित हो कर पृथ्वी के चक्कर काटने लगा है।

स्पेसन्यूज की एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन के इस रॉकेट का हिस्सा आने वाले कुछ दिनों में धरती पर गिर सकता है। पृथ्वी का चक्कर लगाने वाली वस्तुओं को ट्रैक करने वाले एस्ट्रोनोमर जॉनथन मैकडॉवल ने एक बयान में कहा कि इस तरह से इसे (रॉकेट) बेकाबू होकर धरती पर प्रवेश नहीं करने दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि 1990 के बाद से 10 टन से अधिक किसी भी वस्तु को दोबारा पृथ्वी में प्रवेश होने के लिए ऑर्बिट में नहीं छोड़ा जाता है।

पिछले साल भी हुई ऐसी घटना

आपको बता दें कि बीजिंग के तियानहे मॉड्यूल को लॉंग मार्च 5बी रॉकेट द्वारा कक्षा में ले जाया गया, जिसे सफलतापूर्वक अलग कर दिया गया। अब अमरीकी सैन्य राडार ने हर 90 मिनट में पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए लगभग सात किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से 30 मीटर लंबे रॉकेट को ट्रैक किया है।

यह भी पढ़ें :- रूस ने इंटरनेशल स्पेस स्टेशन को 2025 तक अलविदा कहने का मन बनाया, बताया ये कारण

स्पेसन्यूज के अनुसार, वर्तमान माप के तहत ये संकेत मिलता है कि रॉकेट उत्तरी गोलार्ध में न्यूयॉर्क से वेलिंगटन, न्यूजीलैंड तक दक्षिणी गोलार्ध के वायुमंडल में कहीं भी फिर से प्रवेश कर सकता है। हालांकि यह सबसे अधिक संभावना है कि मलबा समुद्र में गिरेगा। इससे पहले पिछले पिछले साल मई में एक लॉन्ग मार्च 5B रॉकेट लॉन्च भी अनियंत्रित री-एंट्री का शिकार हुआ था।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned