इस्तांबुल: चीन के अत्याचार से सहमे उइगर मुसलमान, कहा- बीजिंग वापस नहीं जाना चाहते

इस्तांबुल: चीन के अत्याचार से सहमे उइगर मुसलमान, कहा- बीजिंग वापस नहीं जाना चाहते

Mohit Saxena | Publish: Aug, 12 2019 02:59:55 PM (IST) | Updated: Aug, 12 2019 03:17:52 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • उइगर मुसलमानों को चीन अपने वोकेशनल कैंप में रख रहा है
  • तजाकिस्तान में रह रहे उइगर मुस्लिमों को जबरदस्ती चीन वापस भेजा जा रहा

इस्तांबुल। चीनी मुस्लिम शरणार्थियों को डर है कि उन्हें इस्तांबुल के निर्वासन केंद्र में दो माह रखने के बाद चीन वापस न भेज दिया जाए। वह वापस चीन नहीं जाना चाहते हैं। उत्तरपश्चिम चीन में उइगर समुदाय पर हाल के दिनों में काफी अत्याचार हुए हैं। इन्हें चीन अपने वोकेशनल कैंप में रख रहा है और यहां पर उन्हें चीनी संस्कृति का ज्ञान दिया जाता है।

तुर्की चीन की नीतियों की आलोचना करने वाला एकमात्र मुस्लिम-बहुल राष्ट्र रहा है। यहां पर हजारों उइगर शरणार्थियों को शरण दी जाती है। मगर आजकल यहां पर डर का माहौल है। यहां अफवाह फैल रही हैैं कि उइगर में खासकर महिलाएं और उनके बच्चे जिन्हें ताजिक पासपोर्ट दिया गया था , उन्हें वापस चीन भेजा जा रहा है।

पेंसिलवेनिया: देखभाल केंद्र में लगी भयंकर आग, चपेट में आए चार भाई बहनों समेत पांच बच्‍चों की मौत

गलत आरोप लगाकर फंसाया जा रहा

29 वर्षीय व्यक्ति अहेमीती जियानमाइक्सीडिंग ने बताया कि उसके पास तुर्की निवास और वर्क परमिट है और इस्तांबुल में कारखाना चलाता है। अदालती दस्तावेजों के अनुसार, उसे 30 मई को गिरफ्तार किया गया था। उस पर आरोप है कि वह उइगर राष्ट्रीय आंदोलन का फाइनेंसर है।

जियानमाइक्सीडिंग ने बताया कि उसने इससे पहले कभी भी इस संगठन का नाम नहीं सुना। उसने कहा कि चीन में रिश्तेदारों को हाल ही में अपने प्रत्यावर्तन का अनुरोध करने वाले कागजात पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर किया गया। उन्हें डर है कि तुर्की सरकार पर उनके निर्वासन के लिए दबाव डाला जा रहा है। उइघुर के कार्यकर्ताओं ने बताया कि उन्हें डर है कि ताजिकिस्तान बीजिंग के आदेश के तहत अपने क्षेत्र में निर्वासन की सुविधा के लिए काम कर रहा है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned