Cyclone Mangga ने ऑस्ट्रेलिया में मचाई तबाही, सोमवार को बरपा सकता है कहर

HIGHLIGHTS

  • ऑस्ट्रेलिया के कई इलाकों में चक्रवात मांग्गा ( Cyclone Mangga ) के कारण तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हुई है
  • अनुमान है कि सोमवार को तूफान मांग्गा के और अधिक तीव्र होने के साथ ही पर्थ में हालात और गंभीर हो सकते हैं

पर्थ। भारत और बांग्लादेश में तबाही मचाने वाला चक्रवात अम्फान ( Cyclone Amphan ) के बाद अब ऑस्ट्रेलिया में चक्रवात मांग्गा ( Cyclone Mangga ) कहर बनकर टूटा है। चक्रवात मांग्गा का कितना विनाशकारी हो सकता है इसका असर जमीन पर दिखने लगा है।

ऑस्ट्रेलिया के कई इलाकों में चक्रवात मांग्गा के कारण तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हुई है। तूफान के कारण पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया का इलाका सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। रविवार को इस इलाके में करीब 50,000 इकाइयों की बिजली चली गई।

अब Cyclone Mangga मचा सकता है भारी तबाही! खतरे को लेकर हाई अलर्ट

रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया के इस इलाके में लैंडफॉल से पहले कम से कम 100 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। अब अनुमान है कि सोमवार को तूफान मांग्गा के और अधिक तीव्र होने के साथ ही हालात और गंभीर हो सकते हैं। हिंद महासागर में उठा ये Cyclone Mangga ठंडे माहौल से जा मिला है।

दशक का सबसे बड़ा तूफान है मांग्गा!

पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के फायर ऐंड इमर्जेंसी डिपार्टमेंट के ऐक्टिंग असिस्टेंट कमिश्नर जॉन ब्रूमहॉल के बताया है कि इतना भयानक तूफान 'दस साल में एक बार आता है।' जॉन ने आगे यह भी कहा कि पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में आमतौर पर दक्षिणपश्चिम से तूफान आते हैं, लेकिन यह चक्रवात मांग्गा उत्तरपश्चिम से आया है।

यही कारण है कि इस तूफान का असर इमारतों, छतों और हल्की चीजों पर सबसे ज्यादा होगा। तूफान के खतरे को देखते हुए लोगों से कहा गया है कि वे अपनी संपत्ति की सुरक्षा सुनिश्चित कर लें। साथ ही ज्यादा से ज्यादा चीजों को बांधकर रखने को कहा गया है। मौसम विभाग के अधिकारी जेम्स ऐश्ली के अनुसार, मौसम की स्थिति काफी जटिल है और बदलती जा रही है।

चक्रवात आइला से अधिक विनाशकारी हो सकता है अम्फान: UN

अभी तक जो खबर सामने आई है उसके अनुसार, तूफान के कारण पर्थ के मेट्रोपॉलिटन इलाके में 37,000 घरों और उद्योगों की बिजली चली गई है। पर्थ में कई इमारतों, घरों, दीवारों और बिजली के उपकरणों को नुकसान की खबर है।ऐसा अनुमान है कि पर्थ में सोमवार सुबह तक हालात अधिक खराब हो सकते हैं और दोपहर से पहले राहत की उम्मीद नहीं है। पर्थ के दक्षिण-पश्चिम इलाके पर सबसे अधिक असर देखने को मिलने वाला है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned