इटली में अभी भी खतरा चरम पर, मरने वालों का अंतिम संस्कार भी करना हुआ मुश्किल

Highlights

  • मंगलवार को यहां पर 743 लोगों की मौत हुई।
  • शनिवार को मरने वालों की संख्या 793 थी।
  • इटली अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ा है।

रोम। कोरोना वायरस से सबसे अधिक इटली जूझ रहा है। इटली में लगातार तीसरे दिन इस महामारी के संक्रमण में गिरावट आई है। मगर यह अभी भी चिंताजनक है। यहां पर मौत के आंकड़ों में ज्यादा गिरावट नहीं आई है। मंगलवार को यहां पर 743 लोगों की मौत हुई, जो शनिवार के मुकाबले मामूली कम थी। इटली में सोमवार को 3,780, मंगलवार को 3,612 और रविवार को 3,957 मामले सामने आए थे।

इटली में नए संक्रमण के मामलों को लेकर चिकित्सा विभाग में थोड़ी खुशी थी। मगर मंगलवार को इटली में 743 लोगों मौत ने सबकुछ बदल दिया। इस बीच इटली में मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कोरोना मरीजों का जर्मनी में भी इलाज किया जा रहा है। इस दौरान इटली अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ा है।

इटली में मृत्युदर दस प्रतिशत पहुंच सकती है

इटली में 5,249 नए मामले आए हैं और COVID19 की चपेट में आने वालों की संख्या 69,176 पहुंच चुकी है। वहीं, इससे मरने वालों की संख्या 6,820 पहुंच गई है। इसके साथ ही यहां की मृत्यु दर चिंताजनक 9.8% पर पहुंच गई है। यहां सिर्फ 8,326 लोग ही अब तक ठीक हो सके हैं। दो दिन के लिए आंकड़े को देखते हुए इटली के नेशनल हेल्थ इंस्टिट्यूट के चीफ सिलवियो ब्रुसाफेरो का कहना है कि ये सकारात्म नंबर जरूर है मगर इसे देखकर ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि गिरावट शुरू हो गई है।

कोरोना के खौफ के कारण इटली में अंतिम संस्‍कार पर रोक लग चुकी है। लोगों को एकत्र होने से मना किया जा रहा है। मरने वालों की संख्‍या इतनी ज्‍यादा है कि लाशों को दूसरे शहरों में दफनाया जा रहा है। इटली की आबादी में ज्यादातर बुजुर्ग वर्ग ज्यादा है। इस कारण इन लोगों को बचा पाना एक बड़ी चुनौती बन चुका है। यहां पर लोग अपनों के मरने के बाद भी अंतिम संस्कार नहीं पहुंच रहे हैं। अखबार के पन्ने और शहर की दीवारें शोक संदेशों से भरी पड़ी हैं।

coronavirus What is Coronavirus? Coronavirus in China
Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned