NSA अजित डोभाल से डरा दाऊद, फोन पर नहीं दिखा रहा सक्रियता

  • दाऊद की आखिरी फोन कॉल में दिल्ली पुलिस ने नवंबर-दिसंबर 2016 में सेंध लगाई थी

नई दिल्ली। भारत के मोस्ट वांटेड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) की सक्रियता बीते तीन साल से बंद है। डॉन सतर्कता बरतते हुए फोन पर बात नहीं कर रहा है। ऐसे में खुफिया एजेंसियां (intelligence agencies) उससे संबंधित ताजा इनपुट लाने में सक्षम नहीं हैं।

दाऊद की आखिरी फोन कॉल में दिल्ली पुलिस ने नवंबर-दिसंबर 2016 में सेंध लगाई थी। खुफिया एजेंसियों ने उसके फोन कॉल में सेंध (इंटरसेप्ट) लगाकर उसकी 15 मिनट की रिकार्डिग की। इसे दिल्ली पुलिस के जासूसों ने कराची स्थित नंबर से केंद्रीय एजेंसियों के सहयोग से रिकार्ड किया था।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दाऊद एक सहयोगी से बात कर रहा था,हालांकि इस सहयोगी की पहचान नहीं हो पाई। दिल्ली पुलिस के एक आईपीएस अधिकारी के अनुसार बातचीत के दौरान लगा कि उसने शराब पी रखी थी। उसकी आवाज थोड़ी लड़खड़ा रही थी। यह बातचीत निजी थी और अंडरवर्ल्ड की किसी गतिविधि या योजना का जिक्र नहीं हुआ था। इस मसले को लेकर उच्चस्तरीय बातचीत हुई जिसमें इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी) और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के शीर्ष अधिकारी शामिल थे।

हालांकि रॉ के पास दाऊद की फोन पर बातचीत में सेंधमारी करने के कई वाकये हैं जिनमें तत्कालीन दिल्ली पुलिस आयुक्त नीरज कुमार द्वारा जून 2013 में रिकॉर्ड की गई अंडरवर्ल्ड की सबसे चर्चित बातचीत है। दाऊद की 1994 से पीछा कर रहे नीरज कुमार ने कहा, "स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच के दौरान हमने दाऊद की आवाज सुनी। इस मामले में आईपीएल के कई क्रिकेटर को आरोपी बनाया गया था।" नीरज कुमार ने दाऊद के सहयोगी दिवंगत इकबाल मिर्ची के खिलाफ मामले की भी जांच की थी।

ऐसा बताया जा रहा है कि मध्य-पूर्व और यूरोप में डी-कंपनी के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने कड़े कदम उठाए हैं। इसके बाद से दाऊद और उसके भाई अनीस इब्राहिम सेलफोन का इस्तेमाल करने से बच रहे हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned