इतिहास में पहली बार स्पेन के प्रधानमंत्री ने बिना बाइबल के शपथ ली

इतिहास में पहली बार स्पेन के प्रधानमंत्री ने बिना बाइबल के शपथ ली

पेद्रो साचेंज केवल दो साल के लिए स्पेन के प्रधानमंत्री होंगे ,छह पार्टियों का समर्थन मिला।

मैड्रिड। इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि स्पेन के नए प्रधानमंत्री ने बिना बाइबिल के शपथ ली। कहा जा रहा कि स्पेन के प्रधानमंत्री पेद्रो सांचेज नास्तिक हैं।इस बात को लेकर वह शनिवार को मीडिया में छाए रहे। मारियानो रखॉय की कुर्सी जाने के बाद पेद्रो सांचेज स्पेन के प्रधानमंत्री बने हैं। रखॉय की पार्टी के भ्रष्टाचार मामले में फंसने के बाद उन्हें प्रधानमंत्री के पद से हटाने के लिए सांचेज को छह दूसरी पार्टियों का समर्थन मिला। सदन में 350 सीटों में 176 सीटों का समर्थन मिलने पर सांचेज दो साल के लिए देश की कमान संभालेंगे।

मारियानो की सरकार गिरने के बाद विपक्षी नेता सांचेज बने स्पेन के नए प्रधानमंत्री

रखॉय को पद छोड़ना पड़ा

आधुनिक स्पेन के इतिहास में रखॉय ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्हें अविश्वास प्रस्ताव में हार का सामना करने के बाद पद छोड़ना पड़ा। नए प्रधानमंत्री के तौर पर सांचेज के पास संसद में केवल एक चौथाई सीटें हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसर अगले हफ़्ते वह एक सूची जारी करेंगे, जिसमें पता चलेगा कि उनकी कैबिनेट में कितने सदस्य हैं।

हूबहू डोनाल्ड ट्रम्प जैसी दिखती है ये महिला, सोशल मीडिया पर फोटो वायरल होते ही मचा हड़कंप

पेद्रो अर्थशास्त्री और बास्केटबॉल खिलाड़ी भी

पेद्रो सांचेज का जन्म स्पेन की राजधानी मैड्रिड में 29 फरवरी, 1972 को हुआ। इन्होंने अपनी पढ़ाई कैमिलो जॉस सेला यूनिवर्सिटी से की है। सांचेज एक अर्थशास्त्री और बेहतरीन बास्केटबॉल खिलाड़ी रहे हैं। वह 2014 में स्पेनिश सोशलिस्ट पार्टी के प्रमुख बने। इसके बाद उन्होंने पार्टी को एक करने में अहम भूमिका निभाई। इसके साथ समाजवादियों को वापस सत्ता में लाने के वादे के साथ चुनाव जीता। चुनाव जीतने के लिए उन्होंने कई हजारों किलोमीटर की यात्राएं अपनी कार से की और कई कार्यकर्ताओं के घरों में रातें गुजारीं। सोशलिस्ट पार्टी में जुड़ने से पहले वह मैड्रिड सिटी काउंसिल में काउंसलर भी रहे हैं।

इससे पहले हार का सामना किया

सांचेज 2015 और 2016 में दो बार चुनावों में हार का सामना भी करना पड़ा। इस कारण उन्हें पार्टी प्रमुख पद छोड़ना पड़ा लेकिन कुछ महीने बाद फिर से उनकी पार्टी के सदस्यों ने उन पर विश्वास जताया और वह एक बार फिर पार्टी प्रमुख बन गए। पूर्व प्रधानमंत्री रखॉय के ख़िलाफ अविश्वास प्रस्ताव सोशलिस्ट पार्टी ने ही पेश किया था। जिसमें उनकी हार हुई।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned