पुराने खंडहर की हो रही थी खुदाई, तभी निकला कुछ ऐसा कि पूरे शहर के उड़ गए होश, मच गया हड़कंप...

पुराने खंडहर की हो रही थी खुदाई, तभी निकला कुछ ऐसा कि पूरे शहर के उड़ गए होश, मच गया हड़कंप...

Rahul Mishra | Publish: Oct, 28 2017 03:27:13 PM (IST) | Updated: Oct, 28 2017 03:34:29 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

जिस किसी भी इंसान के साथ ऐसी घटना होती है, पूरे इलाके में वह चर्चित हो जाता है...

जमीन की खुदाई की जा रही हो और कुछ अप्रत्याशित चीज मिल जाए, ऐसा बहुत कम ही होता है। हालांकि जिस किसी भी इंसान के साथ ऐसी घटना होती है, पूरे इलाके में वह चर्चित हो जाता है। ऐसा ही एक वाकया उत्तर प्रदेश के उन्नाव में हुआ। जहां शौचालय निर्माण के लिए पुराने खंडहर की खुदाई के दौरान कुछ ऐसा निकल आया कि इलाके में सनसनी फैल गई। जिसके बाद मौके पर पुलिस भी पहुंची। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस की जांच ने मामले का खुलासा करते हुए रहस्य से पर्दा हटाया।

सोने के सिक्के मिलने की थी अफवाह-
उत्तर प्रदेश के उन्नाव में अचलगंज क्षेत्र में गड्ढा खोदाई के दौरान सोने-चांदी के सिक्कों से भरी मटकी निकलने की अफवाह फैली थी। जिसके बाद स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने आते ही जांच पड़ताल शुरू किया। जिसेक बाद भवन स्वामी ने थाने में आकर वो सिक्के दिखाए, जो उसे खुदाई के दौरान मिला था। सिक्के देख कर पूरी सच्चाई सामने आ गई। दरअसल खुदाई में सिक्के मिलने की बात तो सही थी। लेकिन खुदाई से निकले सिक्के सोने के नहीं थे। ये सिक्के तांबे के थे।

old ruins
demo pic IMAGE CREDIT:

करीब चार फीट नीचे से निकली थी मटकी-
भूमि स्वामी हसनापुर निवासी मनोज यादव बुधवार को शौचालय निर्माण के लिए मकान के पुराने खंडहर में गड्ढा खोदवा रहे थे। खुदाई के दौरान करीब चार फीट जमीन की खुदाई के बाद एक मटकी निकली। जिसमें पुराने सिक्के भरे पड़े थे। सिक्के मिलते ही इलाके में यह अफवाह फैल गई कि मटकी में सोने के सिक्के मिले है। जबकि हकीकत कुछ और ही थी।

old ruins
demo pic IMAGE CREDIT:

जुट गई थी लोगों की भीड़-
अफवाह फैलते ही मनोज के घर पर लोगों की भीड़ जुट गई। इसी बीच ग्रामीणों ने थानाध्यक्ष सुनील सिंह को सूचना दे दी। एसओ के निर्देश पर उपनिरीक्षक रामगोविंद मिश्र ने गांव पहुंचकर तहकीकात की। पुलिस सिक्कों समेत मनोज को थाने ले आई। यहां जांच के दौरान खोदाई में मिले सिक्कों में से 43 तांबे और जस्ता के निकले। यह सिक्के सन 1941 के हैं। हालांकि कुछ ग्रामीणों ने यह भी कहा कि मटकी से कुछ आभूषण भी मिले। जिसे गृहस्वामी ने दबा दिया।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned