एर्दोगन ने अमरीका को दी चेतावनी, मध्य-पूर्व में शांति के लिए खतरा नहीं बनने देंगे

तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा कि यह क्षेत्र में शांति के लिए खतरा है और तुर्की इस सपने को सच नहीं होने देगा।

इस्तांबुल। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन ने कहा है कि तुर्की कभी भी अमरीका के तथाकथित 'डील ऑफ द सेंचुरी' को क्षेत्र की शांति के लिए खतरा नहीं बनने देगा।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एर्दोगन ने यह टिप्पणी एक लिखित संदेश में की जो उन्होंने सोमवार को मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर में इंटर-पार्लियामेंटरी जेरूसलम प्लेटफॉर्म के तीसरे सम्मेलन में भेजा।

तुर्की के नेता ने कहा कि जिस डील ने जेरूसलम को इजरायल की राजधानी घोषित किया, वह 'एक सपने' से अधिक कुछ नहीं है। यह क्षेत्र में शांति के लिए खतरा है और तुर्की इस सपने को सच नहीं होने देगा।

अनादोलू ने एर्दोगन के हवाले से कहा कि हम इस योजना को मान्यता नहीं देते हैं,जिसका अर्थ है कि फिलिस्तीनी भूमि को मिलाना फिलिस्तीन को नष्ट कर देने जैसा है और पूरी तरह से जेरूसलम को कब्जे में लेने जैसा है।

उन्होंने कहा कि हम इस प्रयास को कभी स्वीकार नहीं करेंगे,जो सतह पर तो द्वि-राष्ट्र समाधान को स्वीकार करता है,लेकिन इसका मतलब अमरीकी प्रशासन के मुख्तारनामे के तहत इजरायल के कब्जे को वैध बनाना है।

Donald Trump
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned