काम की खबर: फेसबुक इस मामले में हुआ सख्त, डिलीट किए 3 करोड़ पोस्ट

काम की खबर: फेसबुक इस मामले में हुआ सख्त, डिलीट किए 3 करोड़ पोस्ट

फेसबुक ने इसकी जानकारी अपने 'कम्युनिटी स्टैंडर्ड्स' के तहत दी है और बताया कि ऐसे कॉन्टेंट के खिलाफ की गई कार्रवाई के बाद से ये कदम उठाया गया है।

नई दिल्ली। फेसबुक एक ऐसा सोशल मीडिया प्लेटफाॅर्म है जिसके फैन पूरी दुनिया में फैले हैं। यहां तक सोशल मीडिया आज लोगों की खाने-पीने जैसी जरूरत हो गई है। लेकिन फायदों के साथ- साथ इसके कई नुकसान भी सामने आते हैं। जिसको कंट्रोल करने के लिए फेसबुक को लगातार नए कड़े कदम उठाने पड़ते हैं।

सावधान! अब आप ट्विटर पर नहीं कर सकेंगे गंदे ट्वीट्स, सर्च नियमों में भी बड़े बदलाव

फेसबुक ने डिलीट किए तीन करोड़ पोस्ट

इसी क्रम में फेसबुक ने पिछले तीन महीनों में लगभग तीन करोड़ पोस्ट डिलीट किए हैं। बता दें कि फेसबुक ने ये पोस्टस सेक्सुअल या हिंसक तस्वीरों, आंतकी प्रॉपेगैंडा या नफरत फैलाने की वजह से डिलीट किए हैं। फेसबुक ने इसकी जानकारी अपने 'कम्युनिटी स्टैंडर्ड्स' के तहत दी है और बताया कि ऐसे कॉन्टेंट के खिलाफ की गई कार्रवाई के बाद से ये कदम उठाया गया है।

2017 की तुलना मामले बढ़े

साथ फेसबुक ने ये भी बताया कि उसने अपनी आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के इस्तेमाल से करीब 3 करोड़ 40 लाख पोस्ट् पर कार्रवाई की थी। जिसमें इस बात का भी पता चला कि 2017 की तुलना में ऐसे मामले करीब तीन गुना बढ़े हैं।

फेसबुक पर बने दोस्त फिर दिया जॉब का ऑफर, मगर जब लड़की पहुंची इंटरव्यू देने तो...

पहले ही हटा दिए थे 200 ऐप्स

अपनी रिपोर्ट में फेसबुक ने बताया कि यूजर्स को चेतावनी दिए जाने से पहले ही करीब 85.6 प्रतिशत लोगों के प्रोफाइल की पहचान कर ली गई थी। बता दें कि इस रिपोर्ट से पहले ही फेसबुक ने एक और बड़ा कदम उठाते हुए 200 ऐप्स हटा दिए थे। फेसबुक ने जानकारी देते हुए बताया कि टेररिस्ट प्रॉपेगेंडा को बढ़ावा देने वाले लगभग 1.9 मिलियन पोस्टस के खिलाफ एक साथ हमला बोलते हुए डिलीट कर दिए। ये सारे पोस्ट फेसबुक ने बिना किसी चेतावनी के हटाए हैं। इसका श्रेय कंपनी ने फोटो डिटेक्शन टेक्नॉलजी को दिया।

अडल्ट न्यूडिटी या सेक्सुअल ऐक्टिविटी के पोस्टस सबसे ज्यादा

फेसबुक ने साथ ही चिंता भी जताई है कि सबसे ज्यादा पोस्ट अडल्ट न्यूडिटी या सेक्सुअल ऐक्टिविटी के पाए गए। लेकिन चाइल्ड पॉर्नोग्राफी को अभी इस रिपोर्ट में नहीं लिया गया।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned