आस्था का प्रतीक बना गोल्डन रॉक, सालों से बिना हिले रहस्यमयी तरीके से बैठा है नोंक पर

आस्था का प्रतीक बना गोल्डन रॉक, सालों से बिना हिले रहस्यमयी तरीके से बैठा है नोंक पर

Arijita Sen | Publish: Feb, 15 2018 02:46:48 PM (IST) | Updated: Feb, 15 2018 02:56:15 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

इसे यहां गोल्डन रॉक या क्येकटियो के नाम से जानते हैं।

नई दिल्ली। दुनियाभर में अजीबोगरीब चीज़ें भरी हुई है और कुछ तो ऐसे हैं जिनके रहस्यों से पर्दा उठा पाना वाकई में नामुमकिन है। क्या कोई भारी भरकम चीज़ बिना किसी सहारे के किसी चोटी पर लटक कर रह सकती है? जवाब हमारा नहीं ही होगा। लेकिन म्यांनमार में करीब 25 फुट ऊंचे में एक विशाल पत्थर दूसरे एक पत्थर की चोटी पर अटकी हुई है।

बिना हिले डुले ये पत्थर सालों से एक ही जगह पर टिका हुआ है। इस पत्थर को आज तक आंधी-तूफान भी अपनी जगह से नहीं हिला सका। बता दें कि म्यांनमार के लोग इसे भगवान का रूप मानते हैं और इसकी पूजा करते हैं।

वर्मा के बौद्ध धर्मालंबियों के लिए ये एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। इसे यहां गोल्डन रॉक या क्येकटियो के नाम से जानते हैं। इस अद्भूत पत्थर के दर्शन के लिए यहासं हमेशा भक्तों की भीड़ लगी रहती है। इस विशाल पत्थर का एक छोर एक नुकीले पत्थर पर टिका हुआ है और बाकी का भाग बाहर की ओर लटका हुआ है।

इसे देखने पर ऐसा लगता है कि जैसे ये सोने का बना हुआ है और इसी के चलते इसे गोल्डन रॉक के नाम से बुलाया जाता है।

Golden rock

यहां पर नवंबर से लेकर मार्च तक लाखों की तादात में श्रद्धालु आते हैं और अपनी मुराद मांगते हैं। इसे देखकर हमेशा यहीं लगता है कि जैसे ये अभी गिर पड़ेगा लेकिन हैरान करने वाली बात तो ये है कि गिरना तो दूर ये पत्थर आज तक अपनी जगह से हिला तक नहीं है।

अपने इस अनोखेपन की वजह से ये मंदिर अब आस्था का प्रतीक बन गया है और यहां के लोग इसे बहुत मन से मानते हैं। इस पत्थर के ऐसा हवा में लटकने की वजह से आज भी पर्दाफाश नहीं किया जा सका है और शायद न ही कभी किया जाएगा। यदि आप भी कभी म्यांनमार जाए तो गोल्डन रॉक का दर्शन ज़रूर करें।

Ad Block is Banned