Google पर उपभोक्ता हितों को नुकसान पहुंचाने का आरोप, चलेगा मुकदमा

Highlights

  • अमरीकी न्याय विभाग जल्द गूगल पर केस दायर कर सकता है।
  • आरोप है कि आईटी कंपनी ऑनलाइन खोज में प्रतिस्पर्धा को लेकर अपना प्रभुत्व जमा रही।

वाशिंगटन। अमरीकी न्याय विभाग जल्दी ही गूगल के खिलाफ केस दायर कर सकता है। गूगल पर दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन के तौर पर अपने प्रभुत्व के गलत इस्तेमाल का आरोप है।

न्याय विभाग का आरोप है कि आईटी कंपनी ऑनलाइन खोज में प्रतिस्पर्धा और उपभोक्ता हितों नुकसान पहुंचा रही है। इसके लिए वह अपने प्रभुत्व का गलत उपयोग कर रही है।

Donald Trump ने फौसी पर निशाना साधा, कहा-वे टीम में काम करने वाले इंसान नहीं

मीडिया को मिली जानकारी के अनुसार दो दशक में किसी भी टेक कंपनी के खिलाफ एंटीट्रस्ट कानूनों के कथित उल्लंघन का ये अब तक का सबसे बड़ा मामला है।

11 राज्य देंगे साथ

न्याय विभाग की इस शिकायत में अमरीका के 11 राज्य शामिल होंगे। पब्लिक कोर्ट रिकॉर्ड के अनुसार इन राज्यों में अर्कांसस, फ्लोरिडा, जॉर्जिया, इंडियाना, केंटकी, लुइसियाना, मिसिसिपी, मिसौरी, मोंटाना, साऊथ कैरोलिना और टेक्सास हैं।

Coronavirus Vaccine: बिल गेट्स को भारत से काफी उम्मीदें, कहा- टीका बनाने में अहम भूमिका होगी

मुकदमा निर्णायक साबित हो सकता है

इस तरह के मुकदमें एप्पल,अमेजॉन और फेसबुक सहित प्रमुख तकनीकी कंपनियों के खिलाफ पहले चल रहे हैं। ऐसे यह मुकदमा नजीर बन सकता है। उपभोक्ता मामलों के वकील लंबे समय से गूगल पर इस तरह के आरोप लगाते रहे हैं कि कंपनी मुनाफे को ज्यादा करने के लिए ऑनलाइन सर्च कारोबार में अपने प्रभुत्व का गलत इस्तेमाल कर रही है।

गूगल के अलावा कई बड़ी टेक कंपनियां के इसी स्तर के मुकदमे हो सकते हैं। फेडरल ट्रेड कमीशन एक वर्ष से अधिक समय से फेसबुक की जांच कर रहा है। इस जांच का अंत भी एक मामले के साथ हो सकता है। गौरतलब है कि गूगल की मूल कंपनी एल्फाबेट इंक है। इसका बाजार मूल्य एक हजार अरब डॉलर से भी अधिक है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned