महान वैज्ञानिक मैक्स बोर्न का आज 135वां जन्मदिन, गूगल ने ऐसे दी श्रद्धांजलि

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित महान वैज्ञानिक मैक्स बोर्न का आज 135वां जन्मदिन है

By:

Published: 11 Dec 2017, 01:25 PM IST

नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित महान वैज्ञानिक मैक्स बोर्न का आज 135वां जन्मदिन है। इस खास मौके पर गूगल ने अपना आज का डूडल उनको समर्पित कर श्रद्धांजलि दी है।

क्वांटम मैकेनिक्स के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार से सम्मानित
उन्हें क्वांटम मैकेनिक्स के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। बॉर्न को क्वांटम मैकानिक्स में अपने योगदान और मौलिक अनुसंधान खासकर तरंग कणों के सांख्यिकीय विश्लेषण के लिए 1954 में नोबल से सम्मानित किया गया। क्वांटम मैकेनिक्स भौतिकी विज्ञान की वह शाखा है जो पदार्थ के सूक्ष्मतम कणों का अध्ययन करता है।

बॉर्न के रिसर्च के बदौलत एमआरआई और लेजर जैसे उपयोगिता की जानकारी मिली
उन्हें अपने सिद्धांत 'बॉर्न रूल' के लिए खासतौर पर प्रसिद्धि मिली। बॉर्न रूल एक क्वांटम थ्योरी है जिसमें मैथेमेटिकल प्रॉबेबिलिटी के माध्यम से तरंग कणों के स्थान का पता लगाया जाता है। बॉर्न के खोज क्वांटम मैकेनिक्स के लिए आधार स्तंभ साबित हुआ था और इसी सिद्धांत के आधार पर कई आधुनिक यंत्र विकसित किये गये। बॉर्न ने क्वांटम मैकेनिक्स के रिसर्च की बदौलत एमआरआई और लेजर जैसे यंत्र की उपयोगिता दुनिया के सामने आई।

गूगल ने बनाया भारत की पहली महिला फोटोपत्रकार का डूडल, देखे उनके द्वारा ली गयी कुछ ऐतिहासिक तस्वीरें

नाजी शासन के दौरान छोड़ना पड़ा था अपना देश
मैक्स बॉर्न का जन्म 11 दिसंबर 1882 को बेसलाऊ में हुआ था।जो अब पोलैंड के नाम से जाना जाता है।उनके पिता का नाम गुस्ताव बॉर्न और मां का नाम मिसेज मारग्रेट था। बॉर्न ने ग्वाटिगेन यूनिवर्सिटी से अपनी पीएचडी की और बाद में फिजिक्स के प्रोफेसर बन गये।जर्मनी में नाजी शासन के दौरान वो अपना देश छोड़कर इंग्लैंड आ गए,जहां उन्होंने एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी में प्राकृतिक दर्शनशास्त्र के लेक्चरर के रूप में काम किया। 1954 में सेवानिवृत्त होने के बाद वह गोटिंगन लौट आए। मैक्स का 5 जनवरी, 1970 को गोट्टिंगेन में निधन हो गया था।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned