संयुक्त राष्ट्र परिषद के चुनाव में भारत की जीत तय, UNSC में अस्थायी सदस्य होगा

Highlights

  • अस्थायी सदस्य के तौर पर 15 देशों की सुरक्षा परिषद (UNSC) में शामिल होना लगभग तय है।
  • 55 सदस्यीय एशिया-प्रशांत समूह (Asia-Pacific Group) ने बीते साल जून में सर्वसम्मति से भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया था।

संयुक्त राष्ट्र। भारत को सुरक्षा परिषद (UNSC) के चुनावों में आसान जीत मिलने की उम्मीद है। संयुक्त राष्ट्र में वह 2021-22 कार्यकाल के लिए अस्थायी सदस्य होगा। 193 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा अपने 75वें सत्र के लिए अध्यक्ष, सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्यों और आर्थिक एवं सामाजिक परिषद के सदस्यों के लिए चुनाव कराएगी।

कोरोना वायरस (Coronavirus) जैसे महमारी के बीच संयुक्त राष्ट्र (UN) मुख्यालय में मतदान के विशेष इंतजाम किए गए हैं। भारत के अस्थायी सदस्य के तौर पर 15 देशों की सुरक्षा परिषद में शामिल होना लगभग तय है। भारत 2021—22 कार्यकाल के लिए एशिया-प्रशांत श्रेणी में अस्थायी सीट के लिए उम्मीदवार है।

55 सदस्यीय एशिया-प्रशांत समूह ने समर्थन किया

बीते साल चीन (China) और पाकिस्तान ( Pakistan) के साथ 55 सदस्यीय एशिया-प्रशांत समूह ने बीते साल जून में सर्वसम्मति से भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया। महासभा हर साल दो वर्ष के कार्यकाल के लिए कुल 10 में से पांच अस्थायी सदस्यों को चुनती है। ये अस्थायी सीटें क्षेत्रीय आधार पर दीं जाती हैं। इस समीकरण में पांच सीटे एशियाई देशों के लिए, एक पूर्वी यूरोपीय देश के लिए, दो लातिन अमरीका और कैरेबियाई देशों और दो पश्चिमी यूरोपीय तथा अन्य राज्यों के लिए होती हैं।

परिषद में चुनाव के लिए दो तिहाही बहुमत की आवश्यकता होगी। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति का कहना है कि इस परिषद में भारत की मौजूदगी से ‘वसुदैव कुटुम्बकम्’ जैसी अनुभूति होती है। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को समकालीन वास्तविकताओं सामने लाने के लिए विश्वसनीय रहने की जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र इस साल अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है।

सुरक्षा परिषद में कुल 15 देश

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कुल 15 देश हैं। इनमें पांच स्थायी सदस्य हैं। ये हैं- अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन और चीन। 10 देशों को अस्थाई सदस्यता दी गई है। हर साल पांच अस्थायी सदस्य चुने जाते हैं। अस्थाई सदस्यों का कार्यकाल दो साल होता है।

निर्विरोध चुना जाना तय

एशिया प्रशांत क्षेत्र से चीन और पाकिस्तान के अलावा अन्य कई देशों ने भारत का समर्थन किया था। बीते साल जून में भारत को सभी का समर्थन मिला था। ऐसे में भारत का निर्विरोध चुना जाना तय है। समर्थन देने वाले एशिया पैसिफिक देशों में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, किर्गिस्तान, मलेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, कतर, सऊदी अरब, श्रीलंका, सीरिया, तुर्की, यूएई और वियतनाम शामिल हैं।

भारत कब-कब अस्थाई सदस्य चुना गया

भारत आठवीं बार सुरक्षा परिषद का अस्थाई सदस्य चुना जा रहा है। इसके पहले 1950-51, 1967-68, 1972-73, 1977-78, 1984-85, 1991-92 और 2011-12 में भारत यह जिम्मेदारी निभा चुका है।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned