Iran ने शुरू किया स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का पहला मानव परीक्षण

HIGHLIGHTS

  • ईरान ने भी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन ( Iran Corona Vaccine ) का पहला मानव परीक्षण मंगलवार को शुरू किया है।
  • ईरान में सरकारी स्वामित्व वाले फार्मास्युटिकल संघ में शामिल शिफा फार्मेड ने टीके का विकास किया है।
  • कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से सबसे अधिक प्रभावित पश्चिमी एशियाई देशों में ईरान भी शामिल है।

तेहरान। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है और लगातार कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं और अब कोरोना के नए स्ट्रेन ( Corona New Strain ) सामने आने के बाद से लोगों में डर का माहौल बना हुआ है। हालांकि कुछ देशों में कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) के टीकाकरण अभियान की शुरुआत होने से इससे बचाव को लेकर लोगों में उम्मीदें काफी बढ़ गई है।

इस बीच ईरान ने भी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन ( Iran Indigenous Corona Vaccine ) का पहला मानव परीक्षण मंगलवार को शुरू किया है। कोरोना महामारी से सबसे अधिक प्रभावित पश्चिमी एशियाई देशों में ईरान भी शामिल है। ईरान में सरकारी स्वामित्व वाले फार्मास्युटिकल संघ में शामिल शिफा फार्मेड ने टीके का विकास किया है।

America को फिलीपींस की धमकी, कहा- कोरोना वैक्सीन नहीं मिला तो रद्द करेंगे सैन्‍य समझौता

यह ईरान का पहला टीका है जिसका मानव ट्रायल किया जा रहा है। राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा कि ईरान एक और टीके के उत्पादन के लिए किसी दूसरे देश के साथ साझेदारी कर रहा है। इसका मानव क्लिनिकल परीक्षण फरवरी में किया जा सकता है। उन्होंने इससे ज्यादा कुछ भी नहीं कहा है।

ईरान में 55 हजार से अधिक की मौत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, परीक्षण से जुड़े हामिद हुसैनी ने बताया है कि मानव क्लिनिकल ट्रायल के पहले चरण में कुल 56 प्रतिभागियों को दो सप्ताह के भीतर ईरान निर्मित कोरोना वैक्सीन के टीके की दो खुराक दी जाएंगी।

उन्होंने बताया कि दूसरी खुराक दिए जाने के करीब एक महीने बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे। बता दें कि ब्रिटेन, अमरीका, यूरोप देशों समेत कई मल्कों में टीकाकरण अभियान की शुरूआत हो चुकी है। भारत व अन्य कई देशों में कुछ वैक्सीन का ट्रायल अभी भी जारी है। उम्मीद है कि भारत में स्वदेशी वैक्सीन से टीकाकरण जनवरी में शुरू हो सकता है।

South Africa: कोरोना वैक्सीन को चीफ जस्टिस ने बताया 'शैतान का टीका', बोले- इससे खराब होगा DNA

मालूम हो कि ईरान में अब तक 12 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और करीब 55,000 लोगों की जान जा चुकी है। पूरी दुनिया की बात करें तो अब तक 8.12 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 17.7 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned