फ्रांस में भारत के साथ राफेल जेट डील की होगी जांच, जज की हुई नियुक्ति

राफेल फाइटर जेट डीज की जांच को लेकर फ्रांस सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। अब फ्रांस में इसकी न्यायिक जांच होगी। इसके लिए एक फ्रांसीसी जज को नियुक्त किया गया है।

नई दिल्ली। राफेल फाइटर जेट डीज की जांच को लेकर फ्रांस सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। साल 2016 में भारत के साथ करीब 59 हजार करोड रुपए के राफेल डीज में कथित भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। अब फ्रांस में इसकी न्यायिक जांच होगी। इसके लिए एक फ्रांसीसी जज को नियुक्त किया गया है। फ्रांसीसी मीडिया जर्नल मेडियापार्ट की एक रिपोर्ट में इस बात की जानकारी दी गई है।

यह भी पढ़ेंः तीन दिन और दो खास मुलाकातों के बाद इस्तीफे के लिए राजी हुए तीरथ सिंह रावत, जानिए पूरा घटनाक्रम
राफेल डील को लेकर कथित अनियमितताओं की खबरें
एक रिपोर्ट में कहा गया कि साल 2016 में भारत और फ्रांस के बीच हुई इस डील की अत्यधिक संवेदनशील जांच औपचारिक तौर पर 14 जून से शुरू हो गई थी। इसी साल अप्रैल के महीने में फ्रांसीसी वेबसाइट ने राफेल सौदे के कथित अनियमितताओं को लेकर कई रिपोर्ट सामने आई थी। मीडियापार्ट ने दावा किया था कि राफेल डील में मदद करने वाले लोगों को छिपाकर करोड़ों रुपए दलाली दिया गया।

जांच पर लगाई थी रोक
एक रिपोर्ट में दावा कि गया कि फ्रांस की सार्वजनिक अभियोजन सेवाओं की वित्तीय अपराध शाखा के पूर्व प्रमुख इलियाने हाउलेट ने आपत्ति के बाद राफेल सौदे में भ्रष्टाचार के कथित सबूतों की जांच पर रोक लगाई थी। खबरों के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि हाउलेट ने फ्रांस के हितों, संस्थानों के कामकाज को संरक्षित करने के नाम पर जांच को रोकने के अपने फैसले को सही बताया था।

2016 में 36 राफेल जेट का हुआ था सौदा
आपको बता दें कि साल 2016 में भारत सरकार ने फ्रांस से 36 राफेल फाइटर जेट का सौदा किया। जिसके तहत एक दर्जन राफेल विमान भारत को मिल भी गए हैं। दोनों देशों के बीच जब यह डील हुई थी, उस समय भारत में काफी विवाद हुआ था। लोकसभा चुनाव से पहले राफेल सौदे को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

यह भी पढ़ेँः उत्तराखंड में सियासी संकट गहराया, सीएम तीरथ सिंह ने की इस्तीफे की पेशकश


अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस विवादों के घेरे में
इस पूरे मामले को लेकर अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस का नाम भी काफी सुर्खियों में आया था। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कई मौकों पर इस डील को लेकर रिलांयस पर कई गंभीर सवाल खड़े किए थे। लोकसभा चुनाव के दौरान भी राहुल ने राफेल डील में भ्रष्‍टाचार के मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned