America: भारत-भूटान में चीन की घुसपैठ एक सोची समझी रणनीति, कहा-वह दूसरे देशों को परखने में लगा

Highlights

  • अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने कहा कि उन्हें लगता है कि चीन दशकों से दुनिया को एक संदेश देने कोशिश में लगा हुआ है।
  • चीन (China) लगातार कुछ ऐसा कर रहा है जिससे पूरा विश्व प्रभावित हो रहा है, पोम्पियों ने कहा कि हमें एकजुट होने की जरूरत।

वाशिंगटन। अमरीकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो (US Secretary of State Mike Pompeo) लगातार चीन हरकतों पर बेबाकी से बयान देते आ रहे हैं। उनका कहना है कि पड़ोसी देशों में चीनी घुसपैठ का एक खास मकसद है। गुरुवार को उन्होंने कहा कि भारत और भूटान (Bhutan) में हालिया घुसपैठ से चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और उनका शासन ये देखने की कोशिश कर रहा है कि अगर वे ऐसा करते हैं तो अन्य देश किस तरह से अपना विरोध करेंगे।

गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच 5 मई से ही पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे कई क्षेत्रों में भारी तनाव बना हुआ है। जून में गलवान घाटी (Galwan Valley) दोनों देशों के बीच हुई झड़प में 20 भारतीय जवानों ने अपनी जान गंवा दी थी।

वहीं, चीन ने हाल ही में Global Environment Facility (GEF) Council में भूटान के साकतेंग वाइल्डलाइफ सेंक्चुअरी (Sakteng Wildlife Sanctuary) पर अपना दावा ठोका है। इस प्रोजेक्ट की फंडिंग का विरोध दर्ज किया है।

अपनी हरकतों से एक संदेश देने की कोशिश में लगा हुआ है

पॉम्पियो ने गुरुवार को हाउस आफ फॉरिजन अफेयर कमेटी (House Foreign Affairs Committee) की कांग्रेस में सुनवाई के दौरान अपनी बात रखी। पोम्पियों ने कहा कि उन्हें लगता है कि चीन दशकों से दुनिया को अपनी हरकतों से एक संदेश देने की कोशिश में लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि जब से शी जिनपिंग सत्ता पर काबिज हुए हैं, तब चीन अपनी ताकत बढ़ाने में लगा है। वह लगातार कुछ ऐसा कर रहा है जिससे पूरा विश्व प्रभावित हो रहा है।

पॉम्पियो के अनुसार भूटान में चीन ने रियल एस्टेट पर दावा जताया है। इसके साथ भारत में हालिया घुसपैठ हुई है। ये सब चीन के असली इरादों को जाहिर करती है। वो देख रहे हैं, परीक्षा ले रहे हैं कि किसी तरह से बाकी दुनिया उनकी इस हरकत का विरोध करती है।

पॉम्पियो ने अपने बयान में कमिटी को यह जानकारी दी

उन्होंने कहा कि वह अब पहले से से ज्यादा विश्वास के साथ कह सकते हैं कि दुनिया इसके लिए तैयार है। सभी को बहुत काम करना है और हमें इसके प्रति गंभीर होना होगा। पॉम्पियो ने अपने बयान में कमिटी को यह जानकारी दी कि भारत ने 106 चीनी मोबाइल ऐप्लीकेशन्स पर प्रतिबंध लगा चुका है। उन्होंने ह्यूस्टन स्थित चीनी वाणिज्य दूतावास को बंद करने पर कहा कि यहां पर चीन ने जासूसी का अड्डा बना रखा था। वह अमरीकी की गोपनीय सूचनाओं को चुराने की कोशिश कर रहा था।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned