Bhasha Mukherjee 20 माह तक और मिस इंग्लैंड का ताज पहने रहेगीं, डॉक्टर बन मरीजों का कर रहीं देखभाल

Highlights

  • कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण अब अगली स्पर्धा अप्रैल 2021 में होगी।
  • कोरोना काल में मॉडलिंग छोड़कर डॉक्टरी के पेशे में वापस लौटीं भाषा।

लंदन। कोरोना वायरस (Coronavirus) से लोगों को बचाने के लिए मिस इंग्लैंड 24 वर्षीय भाषा मुखर्जी एक डॉक्टर के रूप में अपनी सेवाएं दे रही हैं। उन्होंने साल 2019 में मिस इंग्लैंड का खिताब जीता था। मिस इंग्लैंड स्पर्धा में 92 साल बाद ऐसा पहली बार होने वाला है जब कोई मिस इंग्लैंड इतने लंबे समय तक ताज की शोभा बढ़ाने जा रही हैं। भाषा मुखर्जी 20 माह तक इस ताज को पहने रखेंगी।

Afghanistan: सेना और तालिबान के बीच सशस्‍त्र संघर्ष में 5 आतंकी ढेर, 7 सैनिक शहीद

ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि कोरोना वायरस के कारण अब अगली स्पर्धा अप्रैल 2021 में होगी। भाषा का कहना है कि कोरोना काल में मॉडलिंग छोड़कर डॉक्टरी के पेशे में वापस लौटने से उन्हें काफी सुकून मिला। उन्होंने इस दौरान हर दिन लगातार 12 घंटे तक काम किया है। उनकी इच्छा है कि वह अपने देश के लोगों को पूरी तरह से स्वस्थ रखे सकें।

भाषा का कहना है कि मानवता के कार्यों को लेकर उन्हें मिस इंग्लैंड का खिताब से नवाजा गया है। इसलिए जब दुनिया कोरोना जैसी भयानक बीमारी से जूझ रही है तो वे कैसे खुद को इससे अलग रख सकती हैं। उन्होंने कहा कि देश की सेवा से अच्छा और कुछ भी नहीं हो सकता है।

गिलगिट-बाल्टिस्तान में भूस्खलन की चपेट में आई बस, हादसे में 16 की मौत

बॉस्टन के पिलग्रिम अस्पताल में सांस रोग की विशेषज्ञ भाषा का कहना है कि जब संक्रमण का दौर बढ़ा तब वे उस समय भारत में थी। तभी उन्होंने तय कर लिया था कि अब देश को मेरी डॉक्टर के रूप में जरूरत है। भाषा का कहना है कि वे फिलहाल कोरोना मरीजों की देखभाल कर रही हैं।

coronavirus
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned