फेक वीडियो देखने के बाद मां और बच्चों ने 4 दिन तक पिया अपना पेशाब, जानिए पूरा मामला

  • महिला ने फेक वीडियो पर भरोसा कर अपने बच्चों समेत 4 दिनों तक किया पेशाब का सेवन
  • परिवार ने कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ये तरीका अपनाया

लंदन: कई देशों में कोरना का संक्रमण पहले से कम हो गया है लेकिन अब भी कई ऐसे देश हैं जहां इस महामारी ने कोहराम मचा रखा है। ऐसे में लोग इस वायरस से बचने के लिए कुछ भी करने को तैयार है।एक महिला ने कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए 4 दिनों तक पेशाब का सेवन किया। खुद के साथ-साथ महीला ने अपने बच्चों को भी पेशाब पिलाया।

दरअसल, हैरान कर देना ये वाला ये मामला लंदन का है। यहां एक महिला ने फेक वीडियो पर भरोसा करने के चलते अपने बच्चों समेत 4 दिनों तक अपने पेशाब का सेवन किया। परिवार ने कोरोना संक्रमण से बचने के लिए ये तरीका अपनाया।

अब आसमान में उड़ेंगी कारें, अमरीका में उड़ने वाली पहली हाइब्रिड कार को मिली मंजूरी

ल्थवॉच सेंट्रल हेल्थ लंदन की रिपोर्ट के अनुसार, परिवार सोशल मैसेजिंग साइट व्हाट्सऐप पर फैली हुई फर्जी खबरों की शिकार हुआ था। महिला ने बताया कि उसके एक दोस्त से व्हाट्सऐप फॉरवर्ड मैसेज भेजा था। इस मैसेज में दावा किया गया था कि पेशाब पीने से कोरोना वायरस संक्रमण होने का खतरा नहीं है। ऐसे में हमने पेशाब को पीने का फैसला कर लिया।

डेली मेल से बात करते हुए महिला ने बताया कि उसे कोरोनोवायरस वैक्सीन में विश्वास नहीं था।उसे लगता था कि वैक्सीन को तैयार करने में कहीं न कहीं तय मानकों से समझौता किया है। महिला को लगता था कि कोरोनावायरस वैक्सीन की वजह से परिवारसंकट में पड़ सकता है। ऐसे में उसने कोरोना से बचने के लिए अन्य रास्तों की तलाश की और उसका सामना फेक न्यूज से हो गया।

America: भीषण ठंड के कारण टेक्सास में 21 लोगों की मौत

महिला ने बताया उसने अपने बच्चों के साथ चार दिनों तक पेशाब सेवन किया लेकिन इसके बाद उन्हें महसूस हुआ कि कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए यह तरीका सही नहीं है। बता दें सोशल मीडिया पर कोरोना से बचने के कई फेक तरीके अक्सर वायरल होते रहते हैं। इस घटना से आप समझ सकते हैं कि सोशल मीडिया पर किस तरह से फेक न्यूज के झासे में आकर लोग कैसे गलत कदम उठा लेते हैं।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned