बच्चे को जन्म देने के लिए खुद साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंची इस देश की मंत्री

बच्चे को जन्म देने के लिए खुद साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंची इस देश की मंत्री

बच्चे को जन्म देने के लिए साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंची मंत्री, साइकिल से जाने की वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

वेलिंगटन। कहते हैं बच्चे के लिए मां कुछ भी कर देती है, ऐसे में बात बच्चे को जन्म देने की हो तो आप सोच ही सकते हैं कोई भी मां क्या कुछ नहीं कर सकती है। कुछ ऐसा ही किया है न्यूजीलैंड की एक महिला ने। ये मामूली महिला नहीं है बल्कि न्यूजीलैंड की मंत्री भी हैं। जी हां जूली एने जेंटर मां बच्चे को जन्म देने वाली हैं और इसके लिए वे खुद साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंची हैं।

प्रधानमंत्री भी कर चुकी हैं ये काम
प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए संतान को जन्म देने वाली वह बेनजीर भुट्टो के बाद विश्व की दूसरी महिला के बनने वाली न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने ऑकलैंड के एक अस्पताल में बच्ची को जन्म दिया था। खास बात यह है कि अब उन्हीं की मंत्रिमंडल की एक सहयोगी जूली ऐने जेंटर मां बनने वाली है। जेंटर की एक तस्वीर सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रही है।

 

Beautiful Sunday morning for a bike ride, to the hospital , for an induction to finally have this baby. This is it, wish us luck! (My partner and I cycled because there wasn’t enough room in the car for the support crew... but it also put me in the best possible mood!) #42weekspregnant #cycling #bicyclesarethebest

A post shared by Julie Anne Genter (@julieannegenter) on

महिला स्वास्थ्य और परिवहन मंत्री हैं जेंटर
अपने पहले बच्चे को जन्म देने के लिए जेंटर साइकिल चलाते हुए अस्पताल पहुंची। 38 साल की जेंटर इस समय न्यूजीलैंड की महिला, स्वास्थ्य और परिवहन मंत्री हैं। प्रसव के लिए वह अपने घर से करीब एक किलोमीटर दूर स्थित ऑकलैंड सिटी अस्पताल तक साइकिल चलाते हुए ही पहुंची।

इंस्टाग्राम पर खुद की पोस्ट, लिखा ये
साइकिल के साथ अपनी तस्वीर को जेंटर ने खुद अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं। खास बात यह है कि इन तस्वीरों के साथ जेंटर ने लिखा है, आखिरकार एक बच्चे के जन्म के लिए रविवार की शानदार सुबह अस्पताल जाने के लिए साइकिल की सवारी की।

इसलिए साइकिल से पहुंचीं अस्पताल
जूली के साइकिल से ही अस्पताल पहुंचने की वजह भी काफी दिलचस्प है। दरअसल अपने पोस्ट में जूली ने इस बात का जिक्र किया है कि आखिर वे अस्पताल साइकिल से ही क्यों पहुंचीं। जूली ने बताया कि मैं और मेरे जीवनसाथी ने साइकिल से जाने का फैसला लिया क्योंकि कार में अन्य सहयोगी साथियों के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी। लेकिन इससे मेरा मूड भी बहुत बढ़िया हो गया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned