आर्थिक संकट से जूझ रहे पाक ने चीन के सामने फैलाए हाथ

विदेशी मुद्रा संकट टालने के लिए चीन से एक अरब डॉलर का कर्ज लिया।

इस्लामाबाद। आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने एकबार फिर अपने मित्र चीन से मदद ली है। विदेशी मुद्रा संकट टालने के लिए उसने चीन के बैंकों से एक अरब डॉलर का कर्ज लिया है। बुधवार को मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अच्छे प्रतिस्प‌र्द्धी दर पर पाकिस्तान ने कर्ज लिया है। मीडिया के साथ बातचीत में पाकिस्‍तान के स्‍टेट बैंक के गवर्नर तारिक बाजवा ने इसकी पुष्टि की। उन्‍होंने कहा कि यह कर्ज अच्‍छी ब्‍याज दरों पर मिला है।

पाकिस्तानी यूनिवर्सिटी का फरमान, 6 इंच की दूरी पर रहें लड़के-लड़कियां

1.2 अरब डॉल का लोन पहले ही ले चुका

चीन के साथ पाकिस्‍तान के वित्‍तीय,राजनैतिक सहित नजदीकी सैन्‍य संबंध हैं। मीडिया के अनुसार इस लोन से पहले भी पाक 1.2 अरब डॉलर का लोन चीन से ले चुका है। पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से गिर रहा है। मीडिया में एक लेख के अनुसार अधिकारियों को चीन के बैंक से कर्ज लेने के बाद अब पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मदद नहीं लेनी पड़ेगी।

आर्थिक मदद पर निर्भर पाकिस्तान

गौरतलब है कि पिछले कई सालों से अमरीका पाकिस्तान को आर्थिक मदद देता रहा है। वह उसे हर साल अरबों की आर्थिक मदद देता रहा है। मगर आतंकी गुट हक्कानी नेटवर्क पर कार्रवाई न करने पर अमरीका ने उसकी आर्थिक मदद में कटौती कर दी है। इसके बाद से पाकिस्तान की स्थिति खराब होती जा रही है। इससे बचने के लिए उसे चीन पर निर्भर रहना पड़ रहा है। पहले जहां अमरीका उसे मुफ्त आर्थिक मदद देता था, वहीं अब वह पाकिस्तान को लोन के रूप आर्थिक मदद पहुंचा रहा है। अमरीकी राष्ट्रपति ने हाल ही में पाकिस्तान की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि वह पाकिस्तान की मदद कर ठगे हुए महसूस करते हैं। उनका कहना था कि पाकिस्तान आर्थिक मदद लेकर सिर्फ आतंकवाद को पोषित कर रहा है। दरअसल भारत ने अमरीका को पाकिस्तान के खिलाफ कई पुख्ता सबूत दिए हैं। इसे लेकर अमरीका काफी गंभीर है।

पाकिस्तानी की राजधानी में लगे आजादी के नारे, भूख हड़ताल पर बैठे हजारों लोग

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned