अंतरराष्ट्रीय मंचों पर तालिबान को मान्यता दिलाने के लिए पाक पुरजोर कोशिश में जुटा

यूएन में तालिबान के प्रतिनिधि को मान्यता देने की मांग के पीछे भी पाक का ही दिमाग बताया जा रहा है।

नई दिल्ली। तालिबान (Taliban) को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर लाने के लिए पाकिस्तान (Pakistan) पूरी कोशिश में जुटा हुआ है। पहले एससीओ में तालिबानी प्रतिनिधित्व को लाने की कोशिश हुई। यहां पर बात नहीं बनी तो सार्क विदेश मंत्रियों की बैठक के लिए पाक ने तालिबान प्रतिनिधित्व की मांग पुरजोर तरीके से उठाई। सार्क देशों ने भी पाकिस्तान की मांग को अस्वीकार करा है। बैठक इसी वजह से रद्द हो गई।

अब यूएन में तालिबान के प्रतिनिधि को मान्यता देने की मांग के पीछे भी पाक का ही दिमाग बताया जा रहा है। जानकारों के अनुसार तालिबान को लेकर दुनियाभर की आशंकाओं के बीच पाकिस्तान की दरियादिली उसके इरादों पर सवाल खड़ा करती है। फिलहाल भारत पुरजोर तरह से पाक की कवायद का विरोध कर रहा है।

ये भी पढ़ें: UN में तुर्की के राष्ट्रपति ने दोबारा उठाया कश्मीर का मुद्दा, भारत ने किया पलटवार

आईएसआई की वर्चस्व जमाने की रणनीति

जानकारों के अनुसार पाकिस्तान की आईएसआई पूरी तरह से तालिबानी शासन पर अपना वर्चस्व कायम करने की कोशिश में है। पाकिस्तान ने तालिबान को भरोसा दिलाया है कि वह उसकी आवाज वैश्विक स्तर पर मुखर करेगा। तालिबानी व्यवस्था में पाक समर्थक चेहरों को ज्यादा महत्व देने के लिए भी पाकिस्तानी एजेंसी शुरू से प्रयासरत रही है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned