America पर हमले की फिराक में था 28 वर्षीय पाकिस्तानी डॉक्टर, अदालत ने दोषी ठहराया

Highlights

  • एच-1बी वीजा पर अमरीका (America) में नौकरी के लिए गया था, सीरिया जाने की फिराक में था।
  • 19 मार्च को अमरीका की इंटेलीजेंस एजेंसी एफबीआई ने उसे एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया।

वॉशिंगटन। अमरीकी अदालत (American court) ने एक 28 वर्षीय पाकिस्तानी डॉक्टर को आतंकवाद (Terrorism) में शामिल होने का दोषी ठहराया है। दोषी मुहम्मद मसूद आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) के संपर्क में था। अमरीका में हमले करना चाहता था। अमरीका के मिनियापोलिस सेंट पॉल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उसे 19 मार्च को गिरफ्तार कर लिया गया। वह वर्क वीजा एच-1बी (H1B) पर अमरीका पहुंचा था। वह रॉचेस्टर के एक मेडिकल क्लीनिक में को-ऑर्डिनेटर के पद पर काम कर रहा था।

आतंकी संगठन के लिए लड़ने की इच्छा जताई

अदालत में पेश सबूत में मसूद ने जनवरी से मार्च के बीच कई बार आईएसआईएस के आतंकियों से बात की और सीरिया जाकर आतंकी संगठन के लिए लड़ने की इच्छा जताई। उसने अकेले दम पर अमरीका में हमले करने की योजना बनाई।

फ्लाइट से सीरिया जाने की योजना फेल

मसूद ने 21 फरवरी को शिकागो से ओमान(जॉर्डन) तक का एयर टिकट खरीदा था। वहां से होकर वह सीरिया जाना चाहता था। 16 मार्च को उसे योजना बदली पड़ी। क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से जॉर्डन ने दूसरे देशों से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया। इसके बाद मसूद ने मिनियापोलिस से लॉस एंजिल्स जाने की योजना बनाई। यहां वह अपने वह आतंकी संगठन से जुड़े एक साथी से मिलना जाता है। जो उसे कार्गो शिप से सीरिया पहुंचने में मदद करता। मसूद 19 मार्च को रॉचेस्टर से मिनियापोलिस के सेंट पॉल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचा। वहां से लॉस एंजिल्स जाना चाहता था, मगर जैसे ही वह एयरपोर्ट पर चेक इन के लिए पहुंचा उसे एफबीआई की स्पेशल फोर्स ने गिरफ्तार कर लिया।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned