ब्रेक्सिट पर घर में ही फंस गए पीएम बोरिस जॉनसन, भाई ने कैबिनेट से दिया इस्तीफा

  • बोरिस जॉनसन के भाई जो जॉनसन ने कैबिनेट के सदस्य और कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद के तौर पर इस्तीफा दिया
  • ब्रेक्सिट को लेकर बोरिस जॉनसन और उनके भाई जो जॉनसन के बीच मदभेद थे

लंदन। ब्रेक्सिट को लेकर ब्रिटेन में मचे सियासी घमासान के बीच प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को एक के बाद एक झटका लगता ही जा रहा है। अब जॉनसन को अपने ही घर में एक बड़ा झटका लगा है।

दरअसल, ब्रेक्सिट को लेकर बोरिस जॉनसन के छोटे भाई ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। जॉनसन के भाई जो जॉनसन ( Jo Johnson ) ने कैबिनेट के सदस्य और कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद के तौर पर इस्तीफा दे दिया।

ब्रिटेन: पीएम बोरिस जॉनसन ने बुर्का पहनने वाली महिलाओं की तुलना लेटर बॉक्स से की, मचा बवाल

जो जॉनसन सरकार में व्यापार मंत्री और ओर्पिंगटन से संसद के सदस्य थे। उन्होंने कहा कि परिवार के प्रति निष्ठा और राष्ट्रीय हित के बीच वे खुद को फंसा हुआ महसूस कर रहे थे। लिहाजा उन्होंने मजबूर होकर यह कदम उठाया है।

बता दें कि जो जॉनसन ब्रिटेन में भारत के प्रति मित्रवत रूझान रखने वाले राजनेताओं में से एक हैं। वे 'द फाइनेंशल टाइम्स' के पत्रकार के तौर पर भारत में भी कार्य कर चुके हैं।

ब्रेक्सिट पर फंसते नजर आ रहे हैं पीएम बोरिस

बता दें कि एक के बाद एक साथियों के साथ छोड़ने और ब्रेक्सिट पर सहमति न बना पाने को लेकर प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन फंसते नजर आ रहे हैं। जैसे-जैसे यूरोपीयन युनियन से अलग होने की तारीख करीब आते जा रहा है वैसे-वैसे सियासी घमासान बढ़ता ही जा रहा है।

बीते दिन पार्टी के एक नेता ने विपक्ष का दामन थाम लिया, जिसके बाद अब बोरिस के भाई ने भी अपने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।

ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने खोया बहुमत, कंजरवेटिव सांसद लिबरल डैमोक्रेट्स में हुए शामिल

जो जॉनसन का इस्तीफा इस बात का संकेत है कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ में सदस्यता को लेकर काफी बंटा हुआ है। विपक्ष और सरकार के बीच कोई समझौता नहीं हो सका है।

जो जॉनसन ने ट्वीट करते हुए लिखा 'हाल के हफ्तों में मैं परिवार के प्रति निष्ठा और राष्ट्रीय हित के बीच फंसा हुआ महसूस करा रहा था। इस तनाव का कोई हल नहीं था और यही सही समय है कि अन्य लोग सांसद और मंत्री की मेरी भूमिका को ग्रहण करें।'

जो जॉनसन ने आगे कहा कि उन्होंने नौ साल तक ओर्पिंगटन का प्रतिनिधित्व किया और तीन प्रधानमंत्रियों के साथ बतौर मंत्री काम करने का अवसर मिला। यह सब मेरे लिए सम्मान की बात है।

मालूम हो कि 2016 में जो जॉनसन ने ब्रेक्सिट में रहने के लिए मतदान किया था, जबकि बोरिस ने ब्रेक्सिट से अलग होने के लिए अभियान की शुरुआत की थी।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned