करतारपुर कॉरिडोर पर पीएम मोदी के काम की अमरीका में गूंज, सिखों ने की दिल्‍ली एयरपोर्ट का नाम बदलने की मांग

करतारपुर कॉरिडोर पर पीएम मोदी के काम की अमरीका में गूंज, सिखों ने की दिल्‍ली एयरपोर्ट का नाम बदलने की मांग

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Sep, 22 2019 01:19:29 PM (IST) | Updated: Sep, 22 2019 01:21:01 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • दिल्‍ली एयरपोर्ट का नाम बदलकर गुरु नानक देव करने की मांग
  • बोहरा समुदाय के लोग भी पीएम मोदी से मिले
  • ऊर्जा क्षेत्र की अमरीकी कंपनियों के सीईओ से मिले मोदी

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमरीका के 7 दिनों की यात्रा पर हैं। रविवार को पीएम ह्यूस्‍टन में चर्चित हाउडी मोदी कार्यक्रम में हिस्‍सा लेंगे। इस कार्यक्रम में अमरीकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप भी उनके साथ मंच साझा करेंगे। रविवार को पीएम मोदी 50 हजार भारतीय मूल के लोगों को ह्यूस्‍टन में संबोधित करेंगे।

मोदी का जताया आभार

हाउडी मोदी कार्यक्रम में शामिल होने से पहले अमरीका में सिख समुदाय का एक प्रतिनिधिमंडल पीएम मोदी से मिला। सिख समुदाय के लोगों ने पीएम मोदी को भारत सरकार द्वारा लिए गए फैसलों पर बधाई दी। सिख समुदाय के लोगों ने पीएम मोदी को करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्‍तान के साथ बातचीत के जरिए काम शुरू करने के लिए बधाई दी। पीएम मोदी के जयकारे भी लगाए।

bohra.jpg

प्रतिनिधिमंडल में शामिल लोगों ने भारत के विकास में अपने योगदान का पीएम को भरोसा दिया। ह्यूस्टन में बोहरा समुदाय के लोगों ने भी प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की।
कैलिफोर्निया के अरविन के कमिश्नर अविंदर चावला ने पीएम को सिख समुदाय के लिए किए गए कामों और करतारपुर कॉरिडोर के लिए आभार जताया।

पंजाबी समुदाय के लोगों ने मुलाकात के दौरान एक ज्ञापन सौंपते हुए 1984 के सिख दंगों, दिल्ली एयरपोर्ट का नाम गुरु नानक देव के नाम पर करने, भारतीय संविधान के अनुच्छेद 25 और आनंद मैरिज एक्ट, वीजा एवं पासपोर्ट जैसे मुद्दों पर हाउडी मोदी कार्यक्रम के दौरान संदेश देने का अनुरोध किया।

5 मिलियन टन एलपीजी आयात का समझौता

इससे हपले पीएम मोदी ने ह्यूस्टन पहुंचने के बाद सबसे पहले तेल कंपनियों के सीईओ के साथ बैठक की। ऊर्जा के क्षेत्र में भारत और अमेरिका के बीच सहयोग को विस्तार देने के उद्देश्य से यह बैठक की गई है। बैठक के दौरान भारतीय कंपनी पेट्रोनेट और अमेरिकी कंपनी टेलूरियन के बीच 5 मिलियन टन लिक्विड पेट्रोलियम गैस आयात करने का समझौता हुआा इस बैठक में 16 कंपनियों के सीईओ मौजूद रहे और ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया गया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned