सुषमा के नक्शेकदम पर एस जयशंकर, रियाद में फंसे भारतीय तक मदद पहुंचाई

  • भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने की त्वरित कार्रवाई
  • भारत वापस आने के लिए माणिक चट्टोपाध्याय ने आग्रह किया
  • कहा- ऐसा न होने पर वह आत्महत्या के लिए मजबूर होंगे

नई दिल्ली। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के नक्शेकदम पर चलते हुए, एस जयशंकर ने सऊदी अरब में फंसे एक भारतीय की मदद की है। इसके साथ रियाद में भारतीय दूतावास के अधिकारियों की त्वरित कार्रवाई की सराहना की। माणिक चट्टोपाध्याय नाम के एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने भारत वापस जाना चाहा और नव नियुक्त मंत्री से अपने पहले ट्वीट पर मदद करने का आग्रह किया।

 

ट्वीट करके मदद की अपील की

कई ट्वीट के जरिए, माणिक ने मदद की मांग की। 12 मई को, उन्होंने ट्वीट किया कि उन्हें भारत वापस आने के लिए मदद की आवश्यकता है। दो दिन बाद उसने अपना मोबाइल नंबर साझा किया और लिखा कि अगर वे तुरंत सऊदी अरब नहीं छोड़ते हैं तो उनके पास आत्महत्या करने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाएगा। ट्विटर पर साझा किए गए एक वीडियो के माध्यम से, उन्होंने कहा कि वह एक साक्षात्कार के लिए जेद्दा आए,जहां उन्होंने शाकाहारी भोजन की मांग की थी। हालांकि उन्हें शाकाहारी भोजन नहीं मिला। रेस्तरां ने आश्वासन दिया कि वे चिकन परोसते हैं लेकिन बाद में उन्हें पता चला कि रेस्तरां में सभी व्यंजनों में बीफ परोसा जाता है। उन्होंने कहा कि वह तब से खाना नहीं खा पा रहे हैं क्योंकि वह हिंदू हैं।

विवरण साझा करने के लिए कहा

इस दौरान भारतीय दूतावास रियाद में तैनात डॉ सुहेल अजाज खान ने माणिक के ट्वीट का जवाब दिया और विवरण साझा करने के लिए कहा। ईएएम एस जयशंकर ने अधिकारी की कार्रवाई की सराहना की और अधिकारी को सूचित करने के लिए कहा। एस जयशंकर ने 31 मई को विदेश मंत्रालय का कार्यभार संभाला है। वह पहले विदेश सचिव हैं, जिन्हें केंद्रीय विदेश मंत्री बनने का मौका मिला।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned