Bicycle से तय किया 3200 किलोमीटर से ज्यादा का सफर, स्कॉटलैंड से अपने घर एथेंस पहुंचा

Highlights

  • क्लिोयन पापाडिमेट्रयू (Kleon Papadimitriou) ने सात हफ्तों में यानी 48 दिनों में ये कठिन सफर तय किया है, टेंट में गुजारी कई रातें ।
  • करीब तीस किलो के वजन के साथ वह अपनी यात्रा के लिए निकला था, इस दौरान कई बार उसकी साइकल (Bicycle) का टायर पंचर हो गया था।

लंदन। कोरोना वायरस (Coronavirus) से रोकथाम को लेकर बीते दिनों लगाए लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से दुनिया भर में बहुत से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। लोग अपने घरों तक पहुंचने में असमर्थ रहे। खासकर बाहरी देशों में रह रहे लोगों के लिए ये और भी मुश्किल हो गया। फ्लाइट कैंसल हो जाने से कई यात्रियों को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। इस परिस्थिति में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। एक बीस वर्षीय युवा लड़के की फ्लाइट कैंसल (Flight Cancel) होने पर उसने तय किया कि वह अपने घर तक साइकल से पहुंचेगा।

bicycle.jpg

क्लिोयन पापाडिमेट्रयू (Kleon Papadimitriou) एक छात्र हैं। इन्होंने स्कॉटलैंड (Scotland) से एथेंस (Athens) जाने के लिए 3200 किलोमीटर से ज्यादा का सफर साइकल से तय किया। ब्रिटेन में जब मार्च में लॉकडाउन हुआ, तो सभी इंटरनेशल फ्लाइटों (International Flights) पर प्रतिबंध लगा दिया गया। क्लिोयन को अपने घर एथेंस जाना था। ऐसे में उसने तय कि वह अपनी साइकल इस सफर को तय करेगा। नामुमकिन से दिखने वाले सफर को क्लिोयन ने सात हफ्तों में यानि 48 दिनों में तय किया है।

America ने चीन को चेताया, कहा-दुनिया दक्षिण चीन सागर को उसका जल साम्राज्य नहीं बनने देगी

दस मई को साइकल से अपने घर की ओर रवाना

क्लिोयन एथेंसी के मिसलिसिया शहर में रहता है। ब्रिटेन में लॉकडाउन के बाद वह काफी दिनों तक इसके खुलने का इंतजार करता रहा। मगर लॉकडाउन खुलने की कोई सूचना न मिलता देख वह दस मई को साइकल से अपने घर की ओर रवाना हो गया। उसने एक टैंट और कुछ खाने-पीने का सामान अपने साथ ले लिया था। करीब तीस किलो के वजन के साथ वह अपनी यात्रा के लिए निकला था।

bycycle1.jpg

स्कॉलैंड से इंजीनियरिंग कर रहे हैं क्लिोयन

क्लिोयन का कहना की सबसे पहले वह हॉलैंड पहुंचे। यहां पर रुकने के बाद वे जर्मनी, आस्ट्रेलिया और इटली से होते हुए ग्रीथ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कई जगहों पर टेंट के अंदर रात गुजारी। करीब सात हफ्ते के सफर के दौरान उनकी साइकल का टायर भी पंचर हुआ। मगर उन्होंने हार नहीं मानी और आगे बढ़ते रहे। खाने में वह ब्रेड पर निर्भर थे। इसके अलावा कुछ पीनट्स के साथ सफर तय किया। घर पहुंचने पर उनका भव्य स्वागत हुआ। क्लिोयन सफर के दौरान अपने परिवार वालों को पल—पल की जानकारी देते रहे। वह स्कॉलैंड से इंजीनियरिंग कर रहे हैं। 2018 में उन्होंने यूनिवर्सिटी आफ एबरडीन में दाखिला लिया था। उन्होंने कहा कि फ्लाइट चालू होने पर वह दोबारा स्कॉटलैंड लौट लाएंगे।

coronavirus
Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned