फिल्म मर्डर 2 का असली किरदार है पाकिस्तान का ये शख्स, जान ले ली इतनी लड़कियों की

फिल्म मर्डर 2 का असली किरदार है पाकिस्तान का ये शख्स, जान ले ली इतनी लड़कियों की

Ravi Gupta | Publish: Jan, 14 2018 11:42:41 AM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

ऐसा वो सिर्फ इसलिए करता था क्योंकि वो एक कनेडियन फिल्म सीरिज़ में ऐसा होते हुए देखा था

नई दिल्ली। फिल्मों का हमारे जीवन में काफी प्रभाव होता है। हर चीज़ का हमपर प्रभाव होना सामान्य है लेकिन ये इंसान के ऊपर भी निर्भर करता है कि उसे कोई बुरी चीज़ प्रभावित न कर पाएं। लेकिन ऐसे लोग शायद कम ही होते हैं अब आप इस शख्स को ही ले लीजिए जो कि एक फिल्म से प्रभावित होकर कई मासूम महिलाओं को मौत के घाट उतारा।

जी, हां पाकिज्ञतान के रावलपिंडी में रहने वाले इस शख्स का नाम मुहम्मद अली है जो कि मात्र 24 साल का है और इस कम उम्र में ही उसने इस घिनौनें काम को अंजाम दिया है। अब तक इस बंदे ने करीब सत्रह महिलाओं पर चाकू से वार करके उनका खून किया है। साल 2016 में इस प्रकार अचानक महिलाओं के मर्डर के चलते वहां के लोगों में खौफ पैदा हो गया था। हांलाकि इस युवक को साल 2016 के अगस्त माह में आतंकवाद विरोधी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जब पुलिस ने उससे पूछताछ किया तो एक चौकाने वाला सच सामने आया और वो ये था कि ऐसा वो सिर्फ इसलिए करता था क्योंकि वो एक कनेडियन फिल्म सीरिज़ में ऐसा होते हुए देखा था और बाद में वो इससे इतना प्रभावित हुआ कि इसे अपनी निज़ी जि़दंगी में ही उतार लिया।

एक खबर के मुताबिक दोषी साबित हो चुका मुहम्मद अली रावलपिंडी में केवल कामकाजी महिलाओं को अपना निशाना बनाता था और अपने इस काम को अंजाम देने के लिए वो रात के अंधेरे में बिजली कटने पर घरेलू धारधार चाकू से महिलाओं पर हमला करता था। ऐसी ही एक महिला नाम अनम नाज है जो कि 26 साल की थी और पेशे से एक नर्स थी। अली ने नाज को उस वक्त अपना निशाना बनाया जब वह हॉस्पिटल में जा रही थी। इसी हमले में नाज को बचाने के दौरान उसकी सहयोगी भी घायल हुई थी। पुलिस द्वारा पकड़े जाने पर मुहम्मद अली ने कहा कि उसे महिलाओं से नफरत थी और उनको चोट पहुंचाकर उसे मजा आता था।

हालांकि बाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने अली को हत्या के लिए उम्रकैद की सजा सुनाई और इसके साथ ही हत्या के प्रयास के मामले में दस साल जेल की अतिरिक्त सजा सुनाई। इस वाक्ये से हमें एक तो सीख मिलती ही है कि फिल्म और निजी जि़दंगी को कभी भी न मिलाएं और न हीं उनको कभी खुद पर हावी होने दें।

Ad Block is Banned