भारत की दरियादिली पर संयुक्त राष्ट्र प्रमुख का सलाम , कहा-अन्य देशों को लेनी चाहिए सीख

Highlights

  • भारत ने मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति की थी।
  • इस दवा का न्यूयॉर्क में 1500 से ज्यादा कोरोना वायरस संक्रमितों पर परीक्षण हो रहा है।

न्यूयॉर्क। कोरोना (Coronavirus) के खिलाफ जारी जंग में भारत ने न सिर्फ अपने यहां लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग के जरिए स्थितियों को नियंत्रण में कर लिया है। वहीं वो लगातार पड़ोसी देशों और कोरोना से बुरी तरह प्रभावित देशों की मदद भी कर रहा है। इस प्रयास को देखकर संयुक्त राष्ट्र (UN) महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Guterres) ने भी भारत की सराहना की है। उन्होंने कहा है कि बाकी देशों को भी सीखना चाहिए कि मुश्किल समय में कैसे बाकी बातें भूलकर रहत कार्य पर ध्यान देना चाहिए।

गरीब देशों में लॉकडाउन में ढील देना बड़ा जोखिम, इन देशों में हो सकता है नुकसान

हाल ही में भारत ने अमरीका समेत कई देशों को कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के लिए संभावित उपचार मानी जा रही मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति की थी। अमरीका का खाद्य एवं औषधि प्रशासन इस दवा का न्यूयॉर्क में 1500 से ज्यादा कोरोना वायरस संक्रमित लोगों पर परीक्षण कर रहा है। भारत ने इसके निर्यात पर प्रतिबंध को हटाकर देशों को यह दवा दी है।

जो भी देश दूसरे की मदद कर सकता है करे

UN चीफ एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने सभी देशों से एकजुटता का आह्वान किया। उन्होंने कहा जो भी देश अन्य देशों की मदद करने की स्थिति में है उसे ऐसा करना चाहिए। वे भारत समेत उन देशों को सलाम करते हैं जो ऐसा कर रहे हैं। उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के बीच भारत द्वारा अन्य देशों को भेजी जा रही दवाओं और अन्य सामग्रियों से जुड़े सवाल के जवाब में इसे 'शानदार कदम' बताया।

गौरतलब है कि भारत ने मलेरिया रोधी दवा के निर्यात पर लगा प्रतिबंध हटा लिया है। भारत कोरोना वायरस से प्रभावित 55 देशों को सहायता देने के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति करने की प्रक्रिया में है। अमरीका समेत कुछ अन्य देशों में इसे पहुंचाया जा चुका है। भारत ने अभी तक अमरीका, सेशेल्स, मॉरिशस को ये दवा भेज दी है। इसके साथ अफगानिस्तान, भूटान, बांग्लादेश, नेपाल, मालदीव, श्रीलंका और म्यांमार को भी ये दवा भेजी जा रही है।

coronavirus What is Coronavirus? Coronavirus in China
Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned