बदले की कार्रवाई से बचें, आतंकियों पर एक्शन ले पाकिस्तान: जम्मू-कश्मीर पर फैसले के बाद अमरीका

बदले की कार्रवाई से बचें, आतंकियों पर एक्शन ले पाकिस्तान: जम्मू-कश्मीर पर फैसले के बाद अमरीका

Shweta Singh | Publish: Aug, 08 2019 12:13:06 PM (IST) | Updated: Aug, 08 2019 12:14:39 PM (IST) विश्‍व की अन्‍य खबरें

  • अमरीका ने दो शीर्ष सांसदों ने पाकिस्तान को आक्रमकता से बचने की दी सलाह
  • ईरान ने भी शांति से हल निकालने की जताई उम्मीद

वाशिंगटन। भारत द्वारा लिए गए आर्टिकल 370 के फैसले पर पाकिस्तान बुरी तरह बौखला गया है। बुधवार को पाक ने भारत के साथ व्यापारिक रिश्ते खत्म करने का ऐलान किया। इसके साथ ही अपने एयरस्पेस को भी आंशिक रूप से बंद करने का ऐलान किया। हालांकि, संयुक्त राष्ट्र समेत दुनियाभर से दोनों देशों को संयम बरतने की सलाह दी है।

ताजा बयान अमरीका की ओर से जारी किया गया है। वहां के दो शीर्ष सांसदों ने पाकिस्तान को बदले की कार्रवाई करने से बचने के लिए कहा है। इसके साथ ही ईरान ने भी दोनों देशों को बातचीत से हल निकालने की नसीहत दी है।

'प्रतिशोधी आक्रामकता' दिखाने से बचें

अमरीकी सांसदों ने पाकिस्तान से किसी तरह के 'प्रतिशोधी आक्रामकता' दिखाने से बचने के लिए कहा है। इसके साथ ही अमरीका ने कहा कि वे अपने क्षेत्र में आने वाले आतंकियों के खिलाफ 'संतोषजनक कार्रवाई' करें। आपको बता दें कि बुधवार को पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया को भारत वापस भेजते हुए दोनों देशों के बीच राजनायिक संबंधों को खत्म कर दिया। पाकिस्तान का आरोप है कि जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छिनने का भारत का फैसला 'एकतरफा और गैर-कानूनी' है।

कश्मीर पर जाहिर की चिंता

वहीं , हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी के अमरीकी सेनेटर रॉबर्ट मेनेंडेज और कांग्रेसी इलीयोट एंगेल ने एक संयुक्त बयान में कश्मीर में जारी प्रतिबंध पर चिंता भी व्यक्त की है। अपने बयान में उन्होंने लिखा है, 'पारदर्शिता और राजनीतिक भागीदारी प्रतिनिधि लोकतंत्र की आधारशिलाएं हैं। हमें उम्मीद है कि भारतीय सरकार जम्मू-कश्मीर में इन सिद्धांतों का पालन करेगी।'

आर्टिकल 370: पाकिस्तान ने उठाया बड़ा कदम, भारतीय उड़ानों के लिए बंद किया अपना एयरस्पेस

पाकिस्तान को नसीहत

बयान में आगे कहा गया कि,'नियंत्रण रेखा (LoC) पर घुसपैठियों को रोकने समेत पाकिस्तान को किसी भी जवाबी हमले से बचना चाहिए। साथ ही पाकिस्तान की धरती पर बसे आतंकवाद की जड़ों के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी चाहिए।'

ईरान ने भी दी बातचीत की सलाह

दूसरी ओर ईरान ने भी इस मामले का हल शांति से निकालने की सलाह दी है। ईरान का कहना है कि वह जम्मू एवं कश्मीर को लेकर भारत सरकार के फैसले पर बारीकी से नजर बनाए हुए है। और उसे उम्मीद है कि नई दिल्ली और इस्लामाबाद 'क्षेत्रीय लोगों के हितों की रक्षा' के लिए शांतिपूर्ण तरीका अपनाएंगे और आपस में बातचीत करेंगे। ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैय्यद अब्बास मौसवी ने बुधवार को जारी किए एक बयान में ये बातें कहीं।

पाकिस्तान के मंत्री ने सुषमा के निधन पर जताया शोक, कहा- ट्वीटर पर उनसे बहस हमेशा यादगार रहेगी

प्रवक्ता ने आगे कहा, 'ईरान को उम्मीद है कि उसके क्षेत्रीय मित्र और साथी - भारत और पाकिस्तान- क्षेत्रीय लोगों के हितों की रक्षा के लिए शांतिपूर्ण तरीका अपनाएंगे और प्रभावी कदम उठाने के लिए बातचीत करेंगे।'

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned