मानवाधिकार हनन पर घिरा चीन, US और EU ने चीनी अधिकारियों पर लगाया प्रतिबंध

कथित मानवाधिकार उल्लंघन के मामले में कड़ी कार्रवाई करते हुए EU और US ने चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली। मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर चीन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लगातार घिरता जा रहा है। बीजिंग के खिलाफ पहले से ही सख्त रूख अपनाए हुए अमरीका और यूरोपीय संघ ने अब कथित मानवाधिकारों के हनन को लेकर चीन पर प्रतिबंध लगाए हैं। चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाए जाने को लेकर चीन बौखला गया और कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

यूरोपीय संघ की आधिकारिक पत्रिका में सोमवार को चार चीनी अधिकारियों पर कथित मानवाधिकारों के हनन को लेकर प्रतिबंध लगाए जाने की बात कही गई। इसके बाद अमरीका ने भी दो चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिया। यूरोपीय संघ ने एक बयान में कहा है कि मानवाधिकारों के हनन विशेष तौर पर शिनजियांग प्रांत में उइगुर मुस्लमानों के खिलाफ किए जा अत्यार को लेकर यह प्रतिबंध लगाया गया है।

यह भी पढ़ें :- चीन की नापाक चाल, समझौते के बीच लद्दाख में भारतीय सीमा पर तैनात किए 'सुपर सोल्‍जर', तस्वीरें आईं सामने

बयान में कहा गया है कि यह प्रतिबंध मानवाधिकारों के लिए खड़े होने और उल्लंघन व दुर्व्यवहार के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ ठोस कार्रवाई करने के लिए यूरोपीय संघ के दृढ़ संकल्प का संकेत देते हैं। इधर अमरीकी ट्रेजरी विभाग ने भी कहा है कि उसने शिनजियांग में दो चीनी अधिकारियों, वांग जुन्हेंग और चेन मिंगुओ पर ‘जातीय अल्पसंख्यकों के खिलाफ गंभीर मानवाधिकार हनन के संबंध में’ प्रतिबंध को मंजूरी दी है।

इस संबंध में ‘द ऑफिस ऑफ फॉरेन एसेट्स कंट्रोल’ के निदेशक एंड्रिया गकी ने एक बयान में कहा, ‘जब तक शिनजियांग में उइगुरों के खिलाफ अत्याचार होते रहेंगे तब तक चीनी अधिकारियों को इसके परिणाम भुगतने होंगे।

चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

अमरीका और यूरोपीय संघ द्वारा चीनी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने को लेकर चीन भड़क गया है। चीन ने कहा है कि वह भी EU के चार संस्थाओं के 10 अधिकारियों को प्रतिबंधित करेगा। बीजिंग ने कहा है कि EU की कार्रवाई तथ्यों पर आधारित नहीं है जो कि चीन की संप्रभुता और इंटरेस्ट को नुकसान पहुंचाने वाला है।

यह भी पढ़ें :- उइगुर मुस्लिमों पर अत्याचार को लेकर UN में 39 देशों ने चीन को घेरा, बचाव में उतरा पाकिस्तान

चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि EU और अमरीका की कार्रवाई चीन के आंतरिक मामलों में व्यापक हस्तक्षेप है। इस कदम से चीन-यूरोपीय संघ के संबंधों पर गंभीर रूप से असर पड़ेगा। आपको बता दें कि अमरीका ने इससे पहले भी उइगर मुस्लमानों पर अत्याचार को लेकर कई चीनी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए प्रतिबंध लगाए थे।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned