जम्मू-कश्मीर से प्रतिबंध हटाने को लेकर अमरीकी सांसद प्रमिला जयपाल ने संसद में रखा प्रस्ताव

  • प्रमिला जयपाल ने नजरबंद लोगों को जल्द से जल्द रिहा करने की मांग की
  • प्रमिला जयपाल के प्रस्ताव को केवल रिपब्लिकन सांसद स्टीव वाटकिंस का समर्थन मिला

वॉशिंगटन। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटे हुए चार महीने पूरे हो गए हैं, लेकिन अभी भी कई देशों के सांसदों को ये बात हजम नहीं हो पा रहा है। लिहाजा अपने-अपने देश की संसद में इसे लेकर कुछ न कुछ प्रस्ताव देते रहते हैं और दुनिया का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश करते हैं। हालांकि कामयाबी मिल नहीं पाती है।

अब ऐसा ही कुछ अमरीकी सदन में देखने को मिला है। अमरीकी सांसद प्रमिला जयपाल ने शनिवार को कश्मीर से प्रतिबंध हटाने के लिए संसद में प्रस्ताव रखा।

'आर्टिकल 370' हटने पर छलका अनुपम का दर्द, कहा- मां चाहती है फिर से बनाऊं कश्मीर में घर

इस प्रस्ताव का पिछले काफी दिनों से अमरीका में विरोध हो रहा है। इस प्रस्ताव के विरोध में भारतीय-अमरीकन समूह ने जयपाल के ऑफिस के बाहर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन भी किया।

नजरबंद लोगों को जल्द से जल्द करें रिहा: जयपाल

प्रमिला जयपाल ने अपने इस प्रस्ताव में मांग की है कि भारत सरकार जल्द से जल्द नजरबंद लोगों को रिहा करें और राज्य में संचार व्यावस्था (इंटरनेट) को शुरू किया जाए। इस प्रस्ताव में प्रमिला ने यह भी कहा है कि जम्मू कश्मीर में सुरक्षबलों को वहां पर काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

प्रमिला ने अपने प्रस्ताव में यह भी कहा है कि हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करने के बदले कड़ी शर्त न लगाया जाए। उन लोगों को रिहा करने के लिए जिन बॉन्ड्स पर साइन कराया जा रहा है, उनमें भाषण और राजनीतिक क्रिया-कलापों को रोकने की शर्त नहीं होनी चाहिए। बता दें कि भारत सरकार ऐसे दावों को निराधार करार दे चुकी है।

आर्टिकल 370 के बाद आर्टिकल 371 की हो रही है खूब चर्चा, आखिर क्या खास है इस अनुच्छेद में

आपको बता दें कि प्रमिला जयपाल के प्रस्ताव को रिपब्लिकन सांसद स्टीव वाटकिंस का समर्थन मिला है। इसके अलावा किसी ने भी समर्थन नहीं दिया। इस प्रस्ताव के समर्थन में किसी भी सांसद ने वोट नहीं किया।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned