अमरीका ने तुर्की को चेताया, सीरिया पर हमला किया तो विनाशकारी परिणाम होंगे

  • सीरिया पर सख्त हुए अमरीकी तेवर
  • सीरिया के कुर्द लड़ाके तुर्की के निशाने पर हैं
  • आईएसआईएस की हार के बाद सीरिया से अमरीका सेना की वापसी

वाशिंगटन। अमरीका ने तुर्की को धमकी दी है कि अगर उसने सीरिया पर हमला किया तो इसके परिणाम अच्छे नहीं होंगे।अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को "विनाशकारी" परिणामों की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि अगर तुर्की ने सीरिया पर हमला किया तो अमरीका को भी बदले की कार्रवाई करनी होगी।

ब्रुनेई में शरिया कानून मंजूर, समलैंगिक यौन संबंध रखने वालों को पत्थर मारकर मौत के घाट उतारने की सजा

तुर्की को चेतावनी

वाशिंगटन में तुर्की के विदेश मंत्री मेव्लुत कैवसोग्लू से मुलाकात में अमरीकी विदेश मंत्री ने यह बात कही। अमरीकी विदेश मंत्रालय ने उनकी बातचीत के बाद एक बयान में कहा, " विदेश सचिव पोम्पियो ने पूर्वोत्तर सीरिया के संबंध में चल रही बातचीत के लिए उनका समर्थन व्यक्त किया। साथ ही क्षेत्र में तुर्की की एकतरफा सैन्य कार्रवाई के संभावित विनाशकारी परिणामों की चेतावनी दी।" सीरिया से अमरीकी सेना की वापसी और देश में कुर्द मिलिशिया के खिलाफ तुर्की की लड़ाई की घोषणा के बाद सीरिया में एक नया गतिरोध शुरू हो गया है।

सीरिया पर हमला किया तो विनाशकारी परिणाम

अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने अंकारा को चेतावनी दी कि यदि सीरिया में तुर्की के सैन्य बलों ने एकतरफा सैन्य कार्रवाई की, तो विनाशकारी परिणाम होंगे। तुर्की द्वारा रूस से एस-400 एंटी एयर मिसाइल सिस्टम खरीदे जाने के बाद एफ -35 ज्वाइंट स्ट्राइक फाइटर डील को वाशिंगटन द्वारा ख़ारिज करने के बाद दोनों राष्ट्रों में मतभेद उभर आए हैं। दोनों देशों के बीच वार्ता के बाद एक बयान में अमरीकी विदेश विभाग के प्रवक्ता रॉबर्ट पैलाडिनो ने कहा, " विदेश सचिव पोम्पियो ने पूर्वोत्तर सीरिया के संबंध में चल रही बातचीत के लिए समर्थन व्यक्त किया। साथ ही क्षेत्र में एकतरफा तुर्की सैन्य कार्रवाई के संभावित विनाशकारी परिणामों की चेतावनी दी।"

अमरीका: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शी जिनपिंग को बताया चीन का 'राजा'

तुर्की का पलटवार

तुर्की के उपराष्ट्रपति फिएट ओकटे ने पोम्पियो के बयान पर यह कहते हुए पलटवार किया कि अमरीका को चुनना चाहिए कि वह या तो तुर्की का सहयोगी बना रहे या आतंकवादियों के साथ सहयोग कर दोनों देशों की दोस्ती को खतरे में डाले। आपको बता दें कि पूर्वी सीरिया में कुर्द मिलिशिया के खिलाफ लड़ाई में तुर्की, अमरीका का प्राथमिक सहयोगी रहा है। अब जब अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दाएश की हार के बाद सीरिया से सेना को वापस लेने की घोषणा की है, तो एक बार फिर से अंकारा के लिए सीरिया में दखल का दरवाजा खुला दिखाई देता है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर.

Siddharth Priyadarshi Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned