अमरीका: बाइडेन कैबिनेट के प्रमुख नामों का ऐलान, ब्लिंकन विदेश मंत्री और एलेजांद्रो गृहमंत्री होंगे

Highlights.

- ओबामा और बाइडेन के कार्यकाल में डिप्टी सेक्रेटरी की भूमिका निभा चुके एंटनी ब्लिंकन को विदेश मंत्री नामित किया गया

- वकील एलेजांद्रो मयोरकास को सेक्रेटरी ऑफ होमलैंड सिक्यॉरिटी का पदभार सौंपा गया

- बाइडेन कार्यकाल के लिए ऐवरिल हेन्स को डायरेक्टर ऑफ नेशनल इंटेलिंजेंस नियुक्त किया गया

नई दिल्ली।

अमरीका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी कैबिनेट के प्रमुख नामों का ऐलान कर दिया है। ओबामा और बाइडेन के कार्यकाल में डिप्टी सेक्रेटरी की भूमिका निभा चुके एंटनी ब्लिंकन को विदेश मंत्री नामित किया गया है। वहीं, वकील एलेजांद्रो मयोरकास को सेक्रेटरी ऑफ होमलैंड सिक्यॉरिटी का पदभार सौंपा गया है। एलेजांद्रो ओबामा-बाइडेन कार्यकाल में होमलैंड सिक्यॉरिटी के डिप्टी सेक्रेटरी का पद संभाल चुके हैं। वे लातिनो समुदाय (स्पेनिश भाषी आव्रजक समुदाय जो विभिन्न लैटिन अमरीकी देशों से आकर अमरीका में बसे हैं) से आते हैं। राष्ट्रपति ट्रंप के कार्यकाल में इस समुदाय को खास निशाना बनाया गया था।

बाइडेन कार्यकाल के लिए ऐवरिल हेन्स को डायरेक्टर ऑफ नेशनल इंटेलिंजेंस नियुक्त किया गया है। ऐवरिल तकरीबन एक दशक से ज्यादा समय से बाइडेन के लिए विभिन्न पदों पर काम कर चुकी हैं। हेन्स इस पद के लिए नामित होने वाली पहली महिला होंगी। बाइडेन ने संयुक्त राष्ट्र के लिए राजदूत के तौर पर लिंडा थॉमस ग्रीनफील्ड के नाम का चुनाव किया है। जेक सुल्लिवन को नेशनल सिक्यॉरिटी एडवाइजर नियुक्त किया है।

वहीं, बाइडेन ने पूर्व विदेश मंत्री जॉन केरी को जलवायु के लिए राष्ट्रपति के विशेष दूत के पद के लिए नामित करने की घोषणा की। बाइडन ने जलवायु प्रभारी को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) में स्थान देने का फैसला किया है। पहले ये दर्जा उसे नहीं हासिल था। इस निर्णय से भी संदेश गया है कि जलवायु परिवर्तन रोकने की नीतियां बाइडन प्रशासन के लिए काफी अहमियत रखती हैं।

भारत के सामने बढ़ाया दोस्ती का हाथ

अमरीका के संभावित विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन का मानना है कि भारत और अमरीका तेजी से मुखर होते चीन के रूप में एक समान चुनौती का सामना करते हैं। यही नहीं चीन के साथ मजबूत स्थिति को बनाए रखकर वार्ता करने के लिए नई दिल्ली को अमरीका का एक अहम साझेदार होना चाहिए।

ट्रंप ने अमरीकी मूल्यों को छोड़ा

ब्लिंकन ने आरोप लगाया कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमरीकी गठबंधन को कमजोर कर चीन की महत्वपूर्ण रणनीतिक लक्ष्यों को आगे बढ़ाने में मदद की और दुनिया में शून्यता छोड़ी ताकि चीन उसे भर सके। ब्लिंकन ने यह भी आरोप लगाया कि ट्रंप ने अमरीकी मूल्यों को छोड़ा और हांगकांग में लोकतंत्र को कुचलने के लिए हरी झंडी दिखाई। ब्लिंकन ने ‘जो बाइडन के प्रशासन में अमरीका-भारत के रिश्ते और भारतीय अमरीकी’ विषय पर आयोजित एक डिजिटल पैनल चर्चा में भारतीय मूल के लोगों से कहा कि हमारी एक समान चुनौती तेजी से मुखर होते चीन से निपटने की है। इसमें वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत के प्रति उसकी आक्रामकता शामिल है।

Donald Trump
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned