भारत में टिकटॉक के 2000 से अधिक कर्मचारियों की नौकरी खतरे में, होगी छंटनी

  • कंपनी ने कहा कि भारत में 2,000 से अधिक कर्मचारियों की छंटनी होगी।
  • टिकटॉक के प्रवक्ता ने कहा कि हमें यह स्पष्ट निर्देश नहीं दिया गया है कि हमारे एप को कैसे और कब पुन: स्थापित किया जा सकता है।

By: Mahendra Yadav

Published: 28 Jan 2021, 10:28 PM IST

भारत में प्रतिबंध का सामना कर रहे शॉर्ट वीडियो शेयरिंग एप टिकटॉक (TikTok) ने प्रतिबंध लगने के करीब सात महीने बाद बुधवार को कहा कि वह देश में 2,000 से अधिक कर्मचारियों की छंटनी करेगा। TikTok उन 59 चीनी एपों (Chinese Apps) में से एक है, जिसे सरकार ने स्थायी रूप से प्रतिबंधित करने का फैसला किया है। यह एप सबसे लोकप्रिय एप में से एक था। सरकार द्वारा पिछले साल जून में अस्थायी रूप से चीनी एप्स पर पहली बार प्रतिबंध लगाए जाने के कई महीने बाद यह निर्णय सामने आया है।

स्पष्ट निर्देश नहीं
टिकटॉक के एक प्रवक्ता ने कहा, हमने 29 जून, 2020 को जारी भारत सरकार द्वारा जारी आदेश का पालन करने के लिए तेजी से काम किया है। हम लगातार कोशिश करते हैं कि हमारे एप स्थानीय कानूनों और विनियमों का पालन करें और जो भी चिंताएं हैं, उन्हें दूर करने के लिए पूरी कोशिश करें। प्रवक्ता ने कहा कि इसलिए यह निराशाजनक है कि आगामी सात महीनों में हमारे प्रयासों के बावजूद हमें यह स्पष्ट निर्देश नहीं दिया गया है कि हमारे एप को कैसे और कब पुन: स्थापित किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें—अमरीका में बैन की कोशिशों के बावजूद TikTok की जबरदस्त कमाई, भारत से कारोबार समेटने की घोषणा

tik_tok_2.png

59 चीनी ऐप्स पर लगाया था प्रतिबंध
गौरतलब है कि भारत सरकार ने शुरू में राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं को लेकर टिकटॉक, वीचैट और यूसी ब्राउजर और शाओमी के एमआई कम्युनिटी सहित लगभग 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया था। सरकार ने यह फैसला गलवान घाटी में भारत-चीन सेनाओं के बीच हुए झड़प के बाद लिया था।

यह भी पढ़ें—TIKToK के ग्राफिक वीडियो में अब यूजर्स को मिलेगी वॉर्निंग स्क्रीन, जानिए क्या होगा इसका फायदा

कोई और विकल्प नहीं
टिकटॉक के प्रवक्ता ने कहा कि यह अफसोसजनक है कि भारत में आधे से अधिक सालों से हमारे 2000 कर्मचारियों का समर्थन करने के बाद, हमारे पास अपने कर्मचारियों के आकार को छोटा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। चाइनीज यूनिकॉर्न बाइटडांस के स्वामित्व वाले टिकटॉक ने कहा कि वह टिकटॉक को पुन: लॉन्च करने और भारत में लाखों उपयोगकर्ताओं, कलाकारों, कहानीकारों, शिक्षकों का समर्थन करने का अवसर प्राप्त करने के लिए तत्पर है।

Show More
Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned