इनसे है पंजाब पुलिस की शानः अजय गांधी, अर्शप्रीत कौर, जगतार सिंह, जींदो रानी.. पढ़िए इनकी रोमांचक कहानी

कोरोनावायरस के कारण पंजाब में लागू कर्फ्यू और लॉकडाउन में ये पुलिस वाले देवदूत के रूप में सामने आए।

By: Bhanu Pratap

Published: 23 Apr 2020, 01:49 PM IST

चंडीगढ़। एएसपी अजय गांधी, डीएसपी हीना गुप्ता, ए.एस.आई जगतार सिंह, सरदार अमरोज सिंह, दीपिका सिंह, रोहित मीलू, एसआई अर्शप्रीत कौर, एचसी जतिन्दर सिंह, कांस्टेबल लवप्रीत सिंह, कांस्टेबल लवप्रीत सिंह, कांस्टेबल जींदो रानी.. ये ऐसे नाम हैं, जिनसे पंजाब पुलिस की शान बढ़ रही है। कोरोनावायरस के कारण पंजाब में लागू कर्फ्यू और लॉकडाउन में ये पुलिस वाले देवदूत के रूप में सामने आए। ये उन 70 पुलिस वालों शामिल हैं, जिन्हें ‘डीजीपी ऑनर फॉर इग्जैंमपलरी सेवा टू सोसायटी’ पुरस्कार के लिए चुना गया है। आइए जानते हैं इनके बारे में।

एच सी जतिन्दर सिंह

एच सी जतिन्दर सिंह, जो कि राज्य के सबसे अधिक सक्रिय और प्रमुख ग्रामीण पुलिस अधिकारी (वीपीओ) के तौर पर उभरे हैं, वह गाँव मुच्छल, सब डिविजन जंडियाला (अमृतसर-ग्रामीण) के वीपीओ हैं। उनको किसी दुखी महिला ने फोन किया था कि उसके 3 दिनों के नवजात बच्चे को डॉक्टरी सहायता की तुरंत जरूरत है और उसके पास मदद के लिए कोई नहीं है। गाँव के एक वॉलंटीयर के साथ जतिन्दर उस महिला और उसके बच्चे को अपनी कार में अमृतसर के अस्पताल ले गए और उसका डॉक्टरी इलाज करवाने में सहायता की। इस घटना का वीडियो वायरल हो गया और उनके इस कारनामे ने सभी पंजाबीयों का दिल जीत लिया। इससे पहले उन्होंने गाँव के वॉलंटियरों को प्रेरित किया और जरूरतमंदों को राशन और भोजन बँटा। उन्होंने मुच्छल गाँव में मेडिकल कैम्प लगाने की सुविधा भी मुहैया करवाई।

एएसपी अजय गांधी

बठिंडा में प्रशिक्षण अधीन एएसपी अजय गांधी (आईपीएस), जो इस समय बठिंडा जिले के मोड़ थाने में एसएचओ के तौर पर तैनात हैं, को कोविड-19 सम्बन्धी अपने क्षेत्र के लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए उनकी निरंतर कोशिशों के लिए सम्मानित किया गया है। उन्होंने अधिकार क्षेत्र में पहुँचे एन.आर.आई को ढूँढने के लिए और उनकी डॉक्टरी जांच करवाने के लिए तत्काल और प्रभावशाली कदम उठाए।

Punjab police

ए.एस.आई जगतार सिंह

संगरूर के ए.एस.आई जगतार सिंह को एक गर्भवती महिला पुनीत कुमारी निवासी पत्नी विशाल पंडित निवासी बिहार (जो अब संगरूर के निवासी हैं) के परिवार का फोन आया, जिसमें हीमोग्लोबिन का स्तर 4.5 ग्राम / डीएल था और जो सिविल हस्पताल संगरूर में उपचाराधीन थी। जगतार सिंह ने तुरंत उस ब्ल्डग्रुप का खूनदान किया जो उस समय संगरूर में उपलब्ध नहीं था।

सरदार अमरोज सिंह

स. अमरोज सिंह, पीपीएस, डीएसपी (एयरपोर्ट) एस.ए.एस नगर सभी विदेशी लोगों की मेडिकल जांच यकीनी बनाने में अहम भूमिका निभाई जो चण्डीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुँचे थे। कोविड-19 सम्बन्धी सहायता प्रदान करने और मोहाली जिले के नोडल अधिकारी होने के नाते उन्होंने मेडिकल टीम के साथ तालमेल करके फील्ड टेस्टिंग, मरीजों को डॉक्टरी सहूलतें मुहैया करवाने, संपर्क ढूँढने और सभी विदेशी यात्रियों की घर में क्वारंटीन काम करवाने के लिए अथक मेहनत की।

Punjab police

दीपिका सिंह

श्रीमती दीपिका सिंह, पीपीएस, डीएसपी एसबीएस नगर, जिला एसबीएस नगर कोविड-19 के लिए पुलिस नोडल अधिकारी, ने गाँव पठलावा में राज्य का पहला कोरोना पॉजिटिव मामला आने पर प्रभावशाली ढंग के साथ तालाबन्दी लागू करवाई। उसने कोविड-19 मामलों की जांच और निगरानी के लिए जरुरी कदम उठाने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रक्रिया (एसओपी) दस्तावेज तैयार किये।

रोहित मीलू

रोपड़ जिले के हैड कांस्टेबल रोहित मीलू, 977 / आर ने 04.04.20 को गाँव चितामाली (रोपड़) के कोविड पॉजिटिव केस) से सम्बन्धित सभी संपर्कों की मैडीकल जांच करवाने में प्रभावशाली भूमिका निभाई थी।

Punjab police

एसआई अर्शप्रीत कौर

एसआई अर्शप्रीत कौर, एसएचओ पीएस जोधेवाल, लुधियाना सामाजिक दूरियाँ सम्बन्धी उपायों को लागू करने समेत सब्जी मंडी लुधियाना में नियमित कामों के लिए एक व्यवस्था तैयार करने में सक्रियता के साथ शामिल थे। चाहे वह 17 मार्च को कोविड पॉजिटिव पाई गई और डीएमसी हस्पताल लुधियाना में दाखिल हैं। परन्तु वह अपने जबरदस्त वीडियो सन्देशों के द्वारा पंजाब पुलिस का मनोबल बढ़ा रही हैं और पुलिस को और उत्साहित कर रही हैं।

कांस्टेबल लवप्रीत सिंह

भाई निर्मल सिंह के संस्कार को यकीनी बनाने के लिए अमृतसर शहर के कांस्टेबल लवप्रीत सिंह ने बड़ी भूमिका निभाई। इसके अलावा वह पूरे दिल से और नि:स्वार्थ भावना के साथ गरीबों और जरूरतमंदों की सेवा कर रहा है।

Punjab police

कांस्टेबल जींदो रानी

श्री मुक्तसर साहिब जिले की महिला कांस्टेबल जींदो रानी पिछले 2 महीनों से अपनी तनख्वाह गरीब और कमजोर लोगों को राशन मुहैया कराने के लिए खर्च कर रही है। उसने हाल ही में एक गरीब महिला को भी बचाया जिसको लकवे का दौरा पड़ा था और उसने अपनी तनख्वाह उस महिला के इलाज पर खर्च की थी।

डीएसपी हीना गुप्ता

हीना गुप्ता, डीएसपी (हैड क्वार्टर, श्री मुक्तसर साहिब) ने गरीब गर्भवती महिलाओं की सेहत जांच करवाने की व्यवस्था करवाई और उनको फल, आयरन और फोलिक ऐसिड की गोलियाँ उपलब्ध करवाईं। उन्होंने झुग्गियों में रहने वाली महिलाओं के लिए 2000 सैनेटरी पैड भी बाँटे।

क्या कहते हैं पुलिस महानिदेशक

पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने बताया कि अगली कतार पर काम कर रहे 27 पुलिस जिलों में अलग-अलग रैंक के 70 पुलिस अधिकारियों को सम्मानित किया जायेगा। इनमें दो एएसपी, 22 डीएसपी, 7 इंस्पेक्टर, 13 सब-इंस्पेक्टर, 9 एएसआई और 17 एचसी व सिपाही शामिल हैं। इनका चयन पुलिस कमिश्नर और एसएसपी द्वारा पंजाब पुलिस और अन्य अधिकारियों की राज्य में अगली कतार पर कोविड-19 संचालन और गतिविधियों में बेमिसाल कामों की पहचान करके भेजी गई विभिन्न नामांकनों की जांच के बाद पुरस्कारों की दूसरी सूची के लिए किया गया है।

punjab police
coronavirus
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned