Moradabad: नगर निगम ने तोड़ दिए वकीलों के चैम्बर, वकीलों के पहुंचते ही बुलानी पड़ी फोर्स

Highlights
-अतिक्रमण अभियान शहर में सभी जगह चल रहा है
-अधिवक्ताओं को पन्द्रह दिन पहले दिए थे नोटिस
-सड़क पर रखे हुए चेम्बर ढहाए
-वकीलों ने जमकर किया हंगामा

By: jai prakash

Updated: 01 Mar 2020, 03:46 PM IST

मुरादाबाद: नगर निगम द्वारा शहर में अतिक्रमण के खिलाफ चलाया जा रहा है। इस अभियान में आज नगर निगम टीम ने कलक्ट्रेट परिसर में सड़क किनारे अवैध रूप से अतिक्रमण कर डिवाइडर पर बनाये गये अधिवक्ताओं के चेम्बरों को JCB मशीन से हटा दिया गया। जिससे अधिवक्ताओं ने जमकर हंगामा किया, उनकी मांग थी कि उन्हें बिना बताये अतिक्रमण हटाने के नाम पर उनके चेंबर तोड़े गये हैं।

Shamli: सीएम योगी के पहुंचने से पहले सपा कार्यकर्ताओं ने जमकर किया प्रदर्शन, पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

चेम्बर तोड़ने का किया विरोध
सड़क के किनारे अवैध अतिक्रमण को हटाने के लिए नगर निगम ने ज़िला प्रशासन ने पुलिस के साथ सयुंक्त टीम को लेकर अभियान चलाया है। रविवार सुबह आठ बजे जिला कलेक्ट्रेट परिसर में बनी अवैध दुकानों और अधिवक्ताओं के चेंबर को हटाया गया। जिला कलेक्ट्रेट के गेट पर बने अधिवक्ताओं के चेम्बरों को तोड़ दिया गया। अधिवक्ताओं के चेंबर टूटने की सूचना मिलते ही कलेक्ट्रेट पर सभी अधिवक्ता आ गए। जिसके बाद अधिवक्ताओं ने चेंबर ढहाए जाने का विरोध किया. सभी अधिवक्ता अपने टूटे हुए चेंबर पर बैठ गए।

Noida: अंधेरे में युवती के लिए फरिश्‍ता बनी नोएडा पुलिस, तीन किमी पीछा करके पकड़ा आरोपी को

प्रशासन के खिलाफ करेंगे कार्रवाई
प्रशासन की तरफ से 12 फरवरी को अधिवक्ताओं को अपने चेंबर हटाने का नोटिस दे दिया गया था, लेकिन उसके बाद भी चेंबर नहीं हटाये गए थे। बार एसोसिएशन के महासचिव अभिषेक भटनागर ने बताया कि जिला प्रशासन ने अतिक्रमण हटाने के नाम पर अपनी हटधर्मिता दिखाते हुए अधिवक्ताओं के चेम्बरों को तोड़ दिया है। जिला प्रशासन की तरफ से 15 दिन का जिला बार एसोसिएशन को नोटिस दिया गया था। जिसके बाद बुधवार को बैठक कर प्रशासन की तरफ से समय मांगा था, लेकिन रविवार सुबह उन चेंबरों को तोड़ दिया गया, जिनके लिए नोटिस भी नहीं दिया गया था। प्रशासन के खिलाफ फौजदारी और दीवानी के मुकदमे डालकर कार्रवाई की जाएगी। बार की तरफ़ से कल हड़ताल की घोषणा की गई है, ज़िला प्रशासन से वार्ता की जाएगी अगर ज़िला प्रशासन ने दोबारा चेंबर नही बनवाये तो आर पार की लड़ाई ज़िला प्रशासन से की जायेगी।

jai prakash
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned